– उत्तराखंड सरकार ने माना, लॉकडाउन के अलावा संक्रमण रोकने का कोई और तरीका नही

देहरादून, डीडीसी। एक साल से अधिक गुजर गया और अब भी सरकारों के पास कोरोना संक्रमण रोकने का कोई कारगर इलाज नही। इसे रोकने के लिए सरकारों के पास कुछ है तो वो है लॉकडाउन। अब आपको फिर कमर कसनी होगी, क्योंकि एक बार आपको अपने ही घर मे कैद होना होगा। तमाम राज्य सरकारें इस पर काम शुरू कर चुकी हैं और उत्तराखंड में सरकार लगभग तैयार पूरी कर चुकी है। माना जा रहा है कि इसको लेकर आज यानी बुधवार को सरकार बैठक कर लॉकडाउन जैसा बड़ा फैसला ले सकती है। इसके पीछे एक ठोस वजह सरकार के वो तमाम मंत्री हैं जो बैठक से पहले ही लॉकडाउन को कोरोना संक्रमण रोकने का अंतिम विकल्प मान चुके हैं।

हरक खुलकर आए लॉकडाउन के पक्ष में
कैबिनेट मंत्री डा. हरक सिंह रावत तो खुलकर लाकडाउन के पक्ष में उतरे हैं। उन्होंने कहा कि राज्य में स्थिति विस्फोटक होती जा रही है। ऐसे में कोरोना संक्रमण की चेन तोड़ना जरूरी है, जिसके लिए लाकडाउन ही विकल्प है। उन्होंने कहा कि यह समय आंकड़ों के फेर में पड़ने का नहीं है। यदि अभी नहीं संभले तो बहुत देर हो जाएगी। उन्होंने कहा कि इस संबंध में वह मुख्यमंत्री से बात करेंगे। उधर, माना जा रहा है कि मुख्यमंत्री तीरथ सिंह रावत की बुधवार को मंत्रियों के साथ होने वाली अनौपचारिक बैठक में भी कोरोना संक्रमण की रोकथाम और लाकडाउन के मुद्दे पर चर्चा हो सकती है। सूत्रों के अनुसार कुछ मंत्रियों ने मुख्यमंत्री को राज्य में लाकडाउन का सुझाव दे भी दिया है। अब सभी की नजरें इस पर टिकी हैं कि सरकार क्या फैसला लेती है।

सरकार की पेशानी पर पड़ा बल, पहाड़ चढ़ा कोरोना
प्रदेश में कोरोना संक्रमण की दूसरी लहर जिस तेजी से फैल रही है, उसने हर किसी की चिंता बढ़ा दी है। शहरी क्षेत्रों में तो स्थिति यह है कि अस्पतालों में मरीजों को बेड तक उपलब्ध नहीं हो पा रहे हैं। इसके साथ ही गांवों में भी कोरोना संक्रमण के बढ़ते मामले पेशानी पर बल डालने लगे हैं। ऐसे में पर्वतीय क्षेत्र के गांवों में दिक्कतें बढ़ सकती हैं, क्योंकि वहां संक्रमण की रोकथाम के मद्देनजर चिकित्सा सुविधाओं की कमी है। इस सबको देखते हुए परिस्थितियों से पार पाने के लिए लाकडाउन के विकल्प को लेकर भी चर्चा तेज होने लगी है।

सरकार गंभीर, चर्चा के बाद लॉकडाउन पर फैसला
सरकार के प्रवक्ता और कैबिनेट मंत्री सुबोध उनियाल का कहना है कि प्रदेश सरकार पूरी गंभीरता के साथ कोरोना संक्रमण की रोकथाम के लिए जुटी है। जहां तक लाकडाउन का प्रश्न है, तो सामूहिक चर्चा और परिस्थितियों को देखते हुए कोई निर्णय लिया जाएगा।

--Advertisement--

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here