वॉशिंगटन। पृथ्वी के विनाश की संभावना जितनी बार खारिज होती है, उतनी ही बार एक और नए विनाश की शंका का जन्म होता है। अब एक बार फिर वैज्ञानिकों को लगता है कि पृथ्वी और पृथ्वीवासियों का अस्तित्व खतरे में है।
अंतरिक्ष एजेंसी नासा के वैज्ञानिकों ने चेतावनी दी है कि एक विशाल ऐस्‍टरॉइड तेजी से पृथ्‍वी की ओर बढ़ रहा है। इतना ही नही समय गुजरने कस साथ इस ऐस्‍टरॉइड की रफ्तार भी लगातार बढ़ रही है, जो चिंता का सबब है। माना जा रहा है कि अगले 48 सालों में ऐस्‍टरॉइड पृथ्‍वी से टकरा सकता है। हवाई विश्‍वविद्यालय के खगोलविदों ने इस बात की पुष्टि की है कि विशाल ऐस्‍टारॉइड अपोफिस गति पकड़ रहा है। इसके टकराने पर 88 करोड़ टन टीएनटी के बराबर असर होगा। वैज्ञानिकों ने कहा कि यह ऐस्‍टरॉइड 12 अप्रैल 2068 को पृथ्‍वी से टकरा सकता है। इसके टकराने से पृथ्‍वी पर महाविनाश आ सकता है। यह ऐस्‍टरॉइड करीब 1000 फुट चौड़ा है। अपोफिस ऐस्‍टरॉइड की खोज एरिजोना की वेधशाला ने 19 जून, 2004 को की थी।

तो क्या 48 साल बाद टकराएगा

ऐसा माना जा रहै है कि 48 साल बाद ऐस्‍टरॉइड धरती से टकरा सकता है। शोधकर्ताओं ने अपोफिस को इस साल सुबारू टेलिस्‍कोप के जरिए पता लगाया। इसमें पाया गया कि ऐस्‍टरॉइड सूर्य की रोशनी में गरम हो रहा है। खगोलविदों ने कहा कि इस ऐस्‍टरॉइड के वर्ष 2068 में टकराने की पूरी संभावना है। ऐस्‍टरॉइड को तीसरा सबसे बड़ा खतरा माना जा रहा है।
करार दिया है। माना जा रहा है कि अगले 48 साल में ऐस्‍टरॉइड के धरती से टकरा सकता है।

मूंगफली जैसा हो गया है आकार
खतरनाक ऐस्‍टरॉइड निकेल और लोहे से बना है। रडॉर इमेज से पता चलता है कि यह लंबा हो रहा है। इसका आकार अब मूंगफली की तरह से होता जा रहा है। कुछ समय पहले के शोध में कहा गया था कि इस ऐस्‍टरॉइड के टकराने की संभावना केवल 2.7 प्रतिशत ही है। अब ने शोध में वैज्ञानिक इस बात की जांच कर रहे हैं कि यह धरती से वर्ष 2068 में टकराएगा या नहीं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here