मुरादाबाद, डीडीसी। न सास घर पर थी, न दोनों देवर और पति भी काम पर था। घर पर बहू अकेली थी और लंबे समय से निगाह गड़ाए बैठे ससुर की नीयत डोल गई। उसने अपनी ही बहू का नाकाम चीर हरण कर डाला और जब बेटे ने इसका विरोध किय तो एक पिता ने अपने ही बेटे की छाती में गोली ठोंक दी। बेटा तड़प कर मर गया और आरोपी मौके से फरार हो गया।
ये पूरा माजरा मुरादाबाद के मझोला थाना क्षेत्र का है। बताया जाता है कि यहां रहने वाला दुष्यंत पुत्र अभिषेक एक प्राइवेट हॉस्पिटल में काम करता था। घर में अभिषेक की पत्नी, दो भाई, मां और पिता रहते हैं। अभिषेक की पत्नी का कहना है कि ससुर अभिषेक उसे हमेशा किसी न किसी बहाने देखने और छूने की कोशिश करते हैं। हद तो उस दिन हो गई जब सास और दोनों देवर घर पर नही थे, पति भी किसी का को लेकर घर से बाहर था। अब घर मे ससुर अभिषेक और बहू ही बचे थे। मौका अभिषेक के लिए अच्छा था और इन हालातों में वह खुद पर काबू नही रख सका। अर्से से बहू पर नीयत खराब करके बैठा ससुर अचानक ही बहू पर टूट पड़ा। उसने बहू के साथ जबरदस्ती शुरू कर दी और कपड़े तार-तार कर दिए, लेकिन ससुर अपनी नीयत में कामयाब नही हो सका। इसी बीच बहार गए घरवाले भी वापस आ गए। बहू ने घरवालों को सब कुछ बता दिया। बस इसी बात को लेकर अभिषेक और बेटे दुष्यंत में विवाद शुरू हो गया। शोर सुन पड़ोसी भी जमा हो गए। इसी बीच अभिषेक ने अपना लाइसेंसी रिवॉल्वर निकाल लिया और दुष्यंत को गोली मार दी। लहूलुहान दुष्यंत जमीन पर गिर कर तड़पने लगा और इधर वारदात को अंजाम देने के बाद आरोपी अभिषेक मौके से फरार हो गया। आनन-फानन में दुष्यंत को अस्पताल पहुंचाया गया और सूचना पुलिस को दी गई। इलाज के दौरान दुष्यंत की मौत हो गई। पुलिस को दिए बयान में बहू ने अपने ससुर अभिषेक पर गंभीर आरोप लगाए और कहा कि ससुर उसके साथ अश्लील हरकतें करता था। शव को पोस्टमार्टम के लिए भेजने के साथ ही पुलिस ने आरोपी अभिषेक की तलाश शुरू कर दी है।

--Advertisement--

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here