– शादी करना और पति को लूटना फिदरत बना चुकी थी कातिल बीवी

ललितपुर, डीडीसी। शादी करना और हर शादी के बाद पति के साथ लंबा वक्त गुजार कर उसे अपने मोह पाश में बांधना उसे बखूबी आता था। अपने इस मोह पाश में उसने कइयों को बांधा, शादी भी रचाई और फिर सबको कंगाल बना कर चलती बनी। ये सिलसिला एक दिन थमा, जब उसने अपने पांचवे पति को बेरहमी से मौत के घाट उतार दिया। वारदात को उस वक्त अंजाम दिया गया, जब वह घर के बाहर सो रहा था। तभी पत्नी ने उसका सिर ईंट-पत्थर से कुचल डाला। वारदात को कातिल बीवी ने सिर्फ इसलिए अंजाम दिया था, क्योंकि वह अन्य पतियों की तरह अपने पांचवे पति की दौलत हासिल करने में नाकाम हो गई थी। इस कत्ल का इल्जाम कातिल बीवी ने अपने पहले पति पर लगाया था।

बेशकीमती जमीन बनी कत्ल की वजह
मृतक सूरज अहिरवार की हत्या बीती 10 नवंबर को हुई थी। वह ग्राम थनवारा, थाना जखौरा, ललितपुर उत्तर प्रदेश का रहने वाला था। एक साल पहले उसने रामकुंवर उर्फ रानी से शादी की थी। पांच शादियां कर चुकी रानी को अपने पहले पति से एक बेटा था। बीते एक साल में रानी ने हर मुमकिन कोशिश की कि सूरज अपने मोह पाश में बंध जाए, लेकिन ऐसा हुआ नहीं। वह चाहती थी कि सूरज अपनी 2 एकड़ कीमती जमीन उसके बेटे के नाम कर दे, लेकिन जब सूरज इसके लिए राजी नहीं हुआ था तो बीती 10 नंबवर को रानी ने उसे मौत के घाट उतार दिया। वारदात को उस वक्त अंजाम दिया गया, जब वह घर के बाहर सो रहा था।

खुद लिखाया मुकदमा, गायब किया आलाकत्ल
आज इस मामले का पुलिस ने खुलासा किया और कातिल बीवी रानी को जेल भेज दिया। इससे पहले रानी ने अपने कुकर्मों की पूरी दास्तां सुनाई। कत्ल के बाद रानी भागी नहीं, बल्कि चुपचाप अपने कमरे में सो गई। अगली सुबह जब सूरज की लाश घर के बाहर मिली तो रोना-पीटना शुरू कर दिया। उस पर कोई शक न करे, इसलिए उसने सूरज के बड़े भाई से पहले ही मुकदमा दर्ज करा दिया। इतना ही नहीं जिस पत्थर यानी आलाकत्ल का इस्तेमाल उसने कत्ल के लिए किया था, उसे घर के पास बाड़े में छिपा दिया था।

जिससे लिए सात फेरे, उसे कंगाल कर दिया
पूरे मामले में एसपी प्रमोद कुमार का कहना है कि रानी ने 15 साल पहले पहली शादी वीर सिंह से की थी। वह करीब पांच साल तक वीर सिंह के साथ रही और अलग होने से पहले उसकी दौलत पर हाथ साफ कर दिया। ऐसा ही उसने अपने अन्य पतियों के साथ भी किया। वह शादी करती थी, साथ रहती थी और जब उसे दौलत मिल जाती थी तो वह झगड़ कर अपने मायके चली जाती थी। इसके बाद वह फिर नए शिकार की तलाश में जुट जाती और जैसे ही कोई शिकार फंसता तो उसका भी वही अंजाम करती। हालांकि सूरज के मामले में गुनाह ज्यादा संगीन हो गया।

पहले पति को रिझाया और कातिल बना दिया
पूरी वारदात को अंजाम देने से पहले ही रानी ने षडयंत्र बना लिया था। इसके लिए उसने अपने पहले पति वीर सिंह पर डोरे डाले और वह फंस गया। मैरी गांव थाना नबाबाद के रहने वाले वीर सिंह ने रानी के साथ 5 साल गुजारे थे। तो हुआ यूं कि सूरज की दौलत हासिल करने में जब वह नाकाम हुई तो उसने पहले पति वीर से मेल-जोल बढ़ाया। वह यह भी नहीं चाहती थी पहले पति से उसका मेल-जोल गोपनीय रहे और हुआ भी ऐसा ही। सूरज को यह सब पता चल चुका था। इसके बाद ही अचानक सूरज की हत्या होती है और बड़ी आसानी से रानी यह कह कर सारा ठीकरा अपने पहले पति वीर सिंह पर फोड़ देती है कि दोनों के बीच का प्रेम संबंध खुलने पर ही वीर सिंह ने हत्या की।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here