– उत्‍तराखंड में उपनल कर्मचारियों की नौकरी पर लटक रही थी तलवार

देहरादून, डीडीसी। उत्तराखंड की पूर्व त्रिवेंद्र सरकार को चुनाव से ठीक पहले क्यों बिदाई लेनी पड़ी, अब इसकी तस्वीर पूरी तरह साफ हो चुकी है। नई तीरथ सरकार एक के बाद एक त्रिवेंद्र सरकार के गलत फैसलों को बदल रही है। अब एक और बड़ा व सीधे 2 लाख लोगों से जुड़ा फैसला भी तीरथ सरकार ने बदल दिया है। जी हां, उत्तराखंड में उपनल कर्मचारियों पर नौकरी जाने का खतरा मंडरा रहा था, लेकिन अब इनकी नौकरी नही जाएगी।

तत्काल प्रभाव से रद्द किया त्रिवेंद्र का फैसला
सैनिक कल्याण मंत्री गणेश जोशी ने पोर्ट फोलियो मिलते ही एक्शन लेना शुरू कर दिया है। विभाग मिलने के अगले ही दिन सैनिक कल्याण मंत्री गणेश जोशी ने उपनलकर्मियों को बड़ी राहत दी है। उन्होंने आश्वस्त किया है कि उपनल कर्मियों की सेवाएं समाप्त नहीं की जाएगी। उन्होंने पूर्व सीएम त्रिवेंद्र सिंह रावत सरकार का फैसला तत्काल प्रभाव से रद्द कर दिया है।

हड़ताल की वजह से लटक रही थी नौकरी पर तलवार
त्रिवेन्द्र सरकार ने उत्तराखंड पूर्व सैनिक कल्याण लिमिटेड (उपनल) के माध्यम से राज्य के विभिन्न विभागों में अपनी सेवाएं दे रहे दो लाख से ज्‍यादा कर्मचार‍ियों को सेवा समाप्ति के संबंध आदेश जारी किए थे। इस आदेश को तत्काल प्रभाव से रद्द करा दिया है। इससे पूर्व सैनिक कल्याण मंत्री ने विभागीय अधिकारियों के साथ मीटिंग को। जिसके बाद ये अहम फैसला लिया गया। आपको याद दिलाये कि लंबे समय से अपनी कई मांगों को लेकर हड़ताल कर रहे उपनल कार्मिकों की सेवा समाप्ति किए जाने के आदेश जारी कर दिए गए थे।

अन्य समस्याओं का भी होगा निस्तारण
जिसे नवनियुक्त सैनिक कल्याण मंत्री गणेश जोशी ने तत्काल प्रभाव से संज्ञान लेते हुए उपनल कार्मिकों की सेवा पर तलवार बन कर लटक रहे इन सभी आदेशों को निरस्त करवा दिया गया है। जिस प्रकार नवनियुक्त कैबिनेट मंत्री द्वारा पर्सनल कार्मिकों के रोजगार को बचाने के लिए सीधा हस्तक्षेप का फैसला लिया गया है। उसी तरह जल्द ही उपनल कार्मिकों की अन्य समस्याओं पर भी सकारात्मक फैसला लिया जाएगा।

त्रिवेंद्र सरकार के वो फैसले जो तीरथ ने बदल डेल
गैरसैंण कमिश्नरी पर भी लोगों की नाराजगी दूर करने की कोशिश
देवस्थानम बोर्ड से जुड़े मसले पर भी तीरथ नरम
कोरोना काल में दर्ज केस वापस ल‍िए
कुंभ के ल‍िए कोविड-19 की निगटिव रिपोर्ट लाना जरूरी नहीं
सहकारिता बैंक की भर्ती प्रक्रिया कैंस‍िल की

--Advertisement--

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here