– होलिका दहन कार्यक्रम में 50 फीसदी लोग ही ले सकेंगे हिस्सा

देहरादून, डीडीसी। साफ-साफ कहा जाए तो कोरोना वायरस (Coronavirus) एक बार फिर पांव पसार चुका है। ये ऐसा वक्त है कि अगर जरा कोताही जान पर भारी पड़ सकती है और होली (Holi) सिर पर है। भीड़ होगी और हुड़दंग भी। इसे रोकने के लिए राज्य सरकार ने कड़े कदम उठाए है। सरकार ने साफ कर दिया है कि 60 की उम्र से ऊपर वाले और 10 साल से कम उम्र के बच्चे होली नही खेल पाएंगे। होली को लेकर सरकार ने कुछ और गाइडलाइन (Guideline) जारी की हैं और होली खेलने से पहले आपका इस गाइडलाइन को जानना बेहद जरूरी है।

100 से ज्यादा लोग नहीं खेल सकेंगे होली ​
होलिका दहन कार्यक्रम में 50 फीसदी लोग ही हिस्सा ले सकेंगे। सरकार ने किसी भी होली संबंधी कार्यक्रम में अधिकतम लोगों की संख्या 100 में सीमित कर दी है। यानी होलिका दहन कार्यक्रम में महज 50 लोग एक साथ हिस्सा ले सकेंगे। इसके अलावा 60 साल के ऊपर से महिला-पुरुष, 10 साल से कम उम्र के बच्चे और बीमार लोग होली कार्यक्रमों से दूर रहेंगे।

न डीजे बजेगा, न होगी दारू पार्टी
इस बार की होली में हुड़दंग की कोई गुंजाइश नहीं है। साथ ही सार्वजनिक रूप से शराब पीना, तेज म्यूजिक या लाउड स्पीकर चलाना भी मना है। कंटेटमेंट जोन में होली नहीं खेली जा सकेगी। सड़कों और संकरी गलियों में होली खेलने पर रोक होगी। साथ ही होली खेलते समय गीले रंगों का प्रयोग नहीं कर सकेंगे। खाने का सामान केवल डिस्पोजेबल बर्तनों में ही दिया जा सकेगा।

28 और 29 मार्च के लिए है गाइड लाइन
मुख्य सचिव ओम प्रकाश ने सभी जिला अधिकारियों को ये आदेश दिए हैं कि वो कोविड को ध्यान में रखते हुए 12 बिंदुओं पर सख्ती से काम करें। ताकि कोरोना से बचाव हो सके। मुख्य सचिव द्वारा जारी गाइड लाइन होली में दो दिन यानी 28 और 29 मार्च को लागू रहेगी। साफ है आपको सरकार की कोविड गाइड लाइन के मुताबिक ही होली खेलने होगी। नहीं तो पुलिस रंग में भंग डाल सकती हैं।

12 बिंदुओं वाली सख्त गाइडलाइन जारी
जैसा कि आपको पता है कि होली सामूहिक रूप से मनाया जाने वाला त्योहार है। यानी आप इसे अकेले नही मना सकते। रंग लगाने के लिए लोग शारीरिक रूप से एक दूसरे को टच करते हैं। होलिका दहन में भी सैकड़ों लोग एक साथ जमा होते हैं। ऐसे में साफ है कि होली में कोरोना का दो गज दूरी और मास्क जरूरी वाला फॉर्मूला टूटेगा और कोरोना फैलने खतरा रहेगा। इसलिए सरकार ने 12 बिंदुओं वाली सख्त गाइड लाइन जारी की है, जिसे स्थानीय प्रशासन लागू करेगा।

आयोजकों को करना होगा ये इंतजाम
जहां पर भी होली का सार्वजनिक कार्यक्रम होगा वहां पर थर्मल स्कैनिंग, सैनेटाइजर और मास्क की व्यवस्था होनी चाहिए। बुखार, सर्दी-जुकाम वाला व्यक्ति होली कार्यक्रम में हिस्सा नहीं ले सकेगा। यह व्यवस्था होलिका दहन कार्यक्रम स्थल पर भी रहेगी। कार्यक्रम आयोजकों को मौके पर सेनेटाइजर रखना अनिवार्य होगा। साथ ही थर्मल स्कैनिंग भी करानी होगी।

--Advertisement--

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here