– बशर्ते, 20 साल बाद भी वाहन तंदरुस्त होना चाहिए

नई दिल्ली, डीडीसी। मध्यम वर्गीय परिवार की ख्वाहिश कार को 20 साल बाद सड़क पर दौड़ने का अधिकार नही रहता। ऐसी गाड़ियों को कंडम समझा जाता है। यानी कार का फूल टाइम रिटायरमेंट, लेकिन अपनी चहेती कार का रिटायरमेंट आप रोक सकते हैं। बशर्ते कार पूरी तरह फिट और तंदुरुस्त होनी चाहिए।

नई व्हीकल स्क्रैपिंग पॉलिसी
नई व्‍हीकल स्‍क्रैपिंग पॉलिसी (Vehicle Scrap Policy) लागू होने के बाद अब 20 साल पुराने वाहनों को सड़कों पर चलाया जा सकता है, बशर्ते वाहन को फिटनेस सर्टिफिकेट (Fitness) मिला हो। ऐसे वाहन डि-रजिस्‍टर (D-Register) नहीं किए जाएंंगे। हालांकि उसे रि-रजिस्‍टर (Re-Register) कराने के लिए पहले से कई गुना अधिक फीस जमा करनी होगी।

बिना फिटनेस देश की सड़क पर दौड़ रहे 17 लाख वाहन
आपको जानकर हैरानी होगी कि हमारे देश में 15 साल पुराने ऐसे 17 लाख मीडियम और हैवी कॉमर्शियल वाहन हैं, जो बिना फिटनेस सर्टिफिकेट सड़कों पर दौड़ रहे हैं। खैर, नई पॉलिसी से विंटेज वाहनों दूर रहेंगे। ऐसे वाहन पहले की तरह सड़क पर चलते रहेंगे। विंटेज वाहनों के लिए सड़क परिवहन मंत्रालय (Ministry of Road Transport) जल्द ही नए नियम बनाएगा।

बस फिटनेस टेस्ट में पास होना होगा
20 साल पुराना वाहन अगर फिटनेस टेस्‍ट पास कर लेता है। अगर फिटनेस टेस्ट में वाहन पास हो जाता है तो 5 हजार रुपये देकर दोबारा रजिस्‍टर कराया जा सकता है। 15 साल पुराना वाहन दिल्‍ली-एनसीआर को छोड़कर दोबारा रि- रजिस्‍टर कराना होता है, जिसकी फीस अभी केवल 300 रुपये है, लेकिन अब इसे बढ़ाकर 5000 रुपये किया जाएगा। पांच साल बाद यानी 20 साल पूरे होने पर दोबारा फिटनेस कराकर रि- रजिस्‍टर कराने में फिर से 5000 रुपये फीस देनी होगी।

कॉमर्शियल वाहनों की फिटनेस फीस होगी 7500 रुपये
अभी कॉमर्शियल वाहन को आठ साल बाद प्रतिवर्ष फिटनेस कराना होता है। अभी फिटनेस फीस केवल 800 रुपये होती है। नई व्‍हीकल स्‍क्रैपिंग पॉलिसी के तहत फिटनेट फीस 7500 रुपये हो जाएगी। इस तरह कॉमर्शियल वाहनों को 15 साल तक कुल फिटनेस कराने में 52500 रुपये देने होंगे

--Advertisement--

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here