– वर्ष 2014 में देवी-देवताओं पर अभद्र टिप्पणी के मामले में सुल्तानपुर कोर्ट ने 24 जनवरी तक पेश होने को कहा

लखनऊ, डीडीसी। उत्तर प्रदेश के पूर्व कैबिनेट मंत्री स्वामी प्रसाद मौर्य की मुश्किलें भारतीय जनता पार्टी का साथ छोड़ते ही बढ़ने लगीं हैं। हालांकि पार्टी छोड़ने से वारंट जारी होने का कोई संबंध नही है। स्वामी के खिलाफ एमपी-एमएलए कोर्ट ने गिरफ्तारी वारंट जारी किया है। सुल्तानपुर की कोर्ट ने उनको आगामी 24 जनवरी तक पेश होने का आदेश दिया है।

हाजिर नही हुए तो होगी कड़ी कार्रवाई
साल 2014 में देवी-देवताओं पर आपत्तिजनक टिप्पणी करने के मामले में बुधवार को पूर्व मंत्री स्वामी प्रसाद मौर्य अदालत में हाजिर नहीं हुए तो अपर मुख्य दंडाधिकारी एमपी-एमएलए ने आरोपित पूर्व श्रम मंत्री स्वामी प्रसाद मौर्य के खिलाफ पूर्ववत जारी गिरफ्तारी वारंट को जारी करने का आदेश दिया है। अब इस मामले में 24 जनवरी को सुनवाई की तारीख तय हुई है।

2016 से मामले पर ले रखा था स्टे
साफ कर दें कि स्वामी प्रसाद मौर्य के खिलाफ यह नया गिरफ्तारी वारंट नहीं है। वारंट पहले से जारी था, लेकिन इन्होंने हाईकोर्ट से 2016 से इस पर स्टे ले रखा था। इसी 6 जनवरी को MP-MLA कोर्ट ने मौर्य को 12 जनवरी को हाजिर होने को कहा था, जब वह हाजिर नहीं हुए तो वारंट पूर्ववत जारी कर दिया गया।

पिछड़ों-दलितों की उपेक्षा का लगाया आरोप
स्वामी प्रसाद मौर्य इन दिनों यूपी की राजनीति के सबसे ज्यादा चर्चित चेहरों में शुमार हैं। मालूम हो कि मौर्य ने योगी सरकार के कैबिनेट मंत्री पद से इस्तीफा दे दिया है और पिछड़ों व दलितों की उपेक्षा का आरोप लगाते हुए बीजेपी छोड़ने का ऐलान कर दिया है। इशारा मिला है कि मौर्य समाजवादी पार्टी जॉइन करेंगे, लेकिन अभी उन्होंने सपा आधिकारिक तौर पर जॉइन नहीं की है।

भाजपा से सांसद हैं स्वामी की बेटी संघमित्रा
स्वामी प्रसाद मौर्य की बेटी और BJP सांसद संघमित्रा मौर्य ने कहा है कि उनके पिता ने मंत्रिमंडल से इस्तीफा जरूर दिया है, लेकिन उन्होंने समाजवादी पार्टी जॉइन नहीं की है। साथ ही संघमित्रा ने कहा है कि वह खुद बीजेपी में ही रहेंगी। अखिलेश संग आई स्वामी प्रसाद मौर्य की तस्वीर पर बेटी संघमित्रा मौर्य ने कहा कि ऐसी तस्वीर 2017 में भी समाजवादी पार्टी के लोगों ने जारी की थी।

स्वामी के साथ 3 विधायको ने भी छोड़ी पार्टी
योगी सरकार में कैबिनेट मंत्री स्वामी प्रसाद मौर्य के बाद मंगलवार को तीन और भी विधायकों ने बीजेपी छोड़ दी है। इनमें बांदा (Banda) जिले की तिंदवारी विधानसभा से विधायक ब्रजेश प्रजापति, शाहजहांपुर की तिलहर सीट से विधायक रोशनलाल वर्मा और कानपुर के बिल्हौर से विधायक भगवती सागर शामिल हैं। खबर के मुताबिक, इन विधायकों ने स्वामी प्रसाद मौर्य के समर्थन में बीजेपी को छोड़ा है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here