अमृतसर, डीडीसी। खबर मिली कि एक दरोगा महिला के साथ रंगरलिया मना रहा। ऐसे में कांस्टेबल दरोगा को गिरफ्तार कर चौकी ले आया, लेकिन ड्यूटी निभाने की उसे सजा मिली। उसे चौकी में पीटा गया। जिससे आहत कांस्टेबल ने जहर खाकर जान दे दी और महकमा इस मामले को दबाने में जुटा रहा।
मामला अमृतसर के थाना छेहर्टा इलाके का है। बताया जाता है कि यहां हेड कांस्टेबल गुरनाम सिंह को खबर मिली कि खंडवाला धक्का कालोनी में एक युवक और एक युवती अश्लील हरकतें कर रहे हैं। जानकारी मिलते ही गुरनाम सिंह मौके पर जा पहुंचा। जानकारी सही थी और जैसे ही गुरनाम सिंह घर में दाखिल हुआ तो अंदर का नजारा देख कर चौंक गया। अंदर एक महिला और एक पुरुष अर्धनग्न अवस्था में पड़े थे। गुरनाम को हैरत तब हुई जब उसे पता लगा कि कमरे मौजूद व्यक्ति कोई और नही बल्कि लॉरेंस रोड चौकी का एएसआई है। लॉरेंस रोड चौकी भी थाना छेहर्टा के अंतर्गत आती है। यह जानते हुए भी कि आरोपी एक एएसआई है, गुरनाम अपने फर्ज से पीछे नही हटा। रौब ग़ालिब करने के बावजूद गुरनाम ने एएसआई को हिरासत में ले लिया और उसे पकड़ कर लॉरेंस रोड पुलिस चौकी ले गया और इसी चौकी का आरोपी एएसआई था, लेकिन गुरनाम की इस ईमानदार कर्तव्य निष्ठा को सीनियर का अपमान समझ लिया गया। आरोप है कि पीठ थपथपाने के बजाय लॉरेंस रोड पुलिस चौकी के एसआई और आरोपी एएसआई ने गुरनाम को हथकड़ी लगा कर बुरी तरह पीटा। इस घटना ने गुरनाम को अंदर से तोड़ दिया और उसने सल्फास (जहर) खा कर अपनी जान दे दी। गुरनाम की मौत की मौत की वजह पर पुलिस ने पर्दा डालना शुरू कर दिया, लेकिन बात छिप नहीं सकी। मामला खुलते ही बखेड़ा खड़ा हो गया। नाराज लोग सड़क पर उतर आए और पुलिस चौकी का घेराव कर लिया। लोग आरोपी पुलिस अफसरों पर कार्रवाई की मांग कर रहे हैं। आपको बता दें कि रविवार को अस्पताल में गुरनाम ने दम तोड़ा, लेकिन खबर लिखे जाने तक पुलिस ने इस मामले में किसी तरह की कार्रवाई नही की थी।

--Advertisement--

1 COMMENT

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here