– 150 गौवंशियों के सिर से कभी छिन सकती है मदद की छत

हल्द्वानी, डीडीसी। गौवंशियों का जीवन का बचाने के लिए गौ रक्षकों ने प्रशासन से आसरा मांगा है। गौ रक्षकों को जमीन तो नहीं मिली, लेकिन भरोसा जरूर मिला है। गौ रक्षकों के विश्वास पर अगर ये भरोसा खरा उतरा तो गौवंशियों को शहर का मैला-कुचैला नहीं खाना होगा। हालांकि अभी भी गौवंशी मैला-कुचैला नहीं खा रहे, लेकिन किसी और की छत के नीचे 150 से अधिक गौवंशीय को कब तक हरा चारा नसीब होगा। गौवंशियों की इस समस्या के निदान के लिए आज आदि श्री धाम ट्रस्ट के पदाधिकारियों ने जिलाधिकारी से मुलाकात कर एक ज्ञापन सौंपा। जिलाधिकारी ने इसके जल्द समाधान का भरोसा दिया है।

फिलहाल अब्दुल गुर्जर की गौशाला में हो रहा गुजारा
ट्रस्ट के पदाधिकारी अधिवक्ता दीपक बिष्ट ने बताया कि ट्रस्ट पिछले एक साल से गऊ हित में कार्य कर रहा है। एक गाय के साथ शुरू हुआ गायों का काफिला अब 150 से अधिक गायों में तब्दील हो चुका है। फिलहाल तो धमोला कालाढूंगी स्थित अब्दुल गुर्जर की गौशाला में थोड़ी जगह इन गौवंशियों को मिली है, लेकिन यह गऊ माता का ये आसरा स्थायी नहीं है और गौवंशियों की संख्या में लगातार इजाफा हो रहा है। जगह कम पड़ने लगी तो अब जिलाधिकारी को ज्ञापन देकर स्थायी जमीन की मांग की गई है।  ज्ञापन पर शहरी विकास मंत्री व कालाढूंगी विधायक बंशीधर भगत ने भी कार्यवाही के लिए जिलाधिकारी को लिखा है।

पहाड़ी नस्ल की गायों का संरक्षण में जुटे हैं गौ रक्षक
हमारे देश में गायों की बहुत सारी नस्ल हैं और पहाड़ी नस्ल की गाय की अपनी खास विशेषता है। दीपक बिष्ट ने बताया कि वैसे तो हम सभी नस्ल की गायों की देखभाल करते हैं। फिर वह आवारा गाय हों या फिर घायल। कई लोग चारे या पैसे के अभाव में गाय नहीं पाल पाते वह भी गाय दान कर जाते हैं। फिलहाल, पहाड़ी नस्ल की गायों की संरक्षण ट्रस्ट के खास उद्देश्यों में से एक है।

लॉकडाउन में भूखे गरीबों का सहारा बना ट्रस्ट
ऐसा नहीं है कि ट्रस्ट केवल और केवल गऊ हित में काम करता है। बल्कि ट्रस्ट का मुख्य उद्देश्य जनहित है। इसी के तहत ट्रस्ट ने लॉकडाउन के दौरान बड़ी संख्या में भूखे गरीबों के घरों तक राशन पहुंचाया। इसके अलावा ट्रस्ट आवारा गायों को आसरा, चारा, घायलों का इलाज, मंदिर में भंडारा, कोरोना के प्रति जागरुकता के लिए पेंटिंग आदि कार्य करता है।

--Advertisement--

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here