नई दिल्ली, डीडीसी। दिवाली से 2 दिन पहले वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने आज ‘आत्मनिर्भर भारत 3.0’ के तहत बड़े राहत पैकेज का ऐलान कर दिया है। इस ऐलान में रोजगार बढ़ाने पर खास जोर दिया गया है। साथ ही कृषि क्षेत्र और घर खरीदारों के लिए भी सरकार ने ऐलान किया और कहा है कि टैक्स में छूट मिलेगी।
सरकार ने प्रधानमंत्री गरीब कल्याण योजना के तहत अतिरिक्त 10,000 करोड़ रुपए देने का ऐलान किया है। यह ऐलान इनकम टैक्स राहत के तौर पर किया है। हाउसिंग के क्षेत्र में यह फायदा घर बनाने वाले और खरीदने वाले दोनों को मिलेगी। घर बेचने में सर्किल रेट और वैल्यू रेट में 10 फीसदी की छूट को बढ़ाकर अब 20 फीसदी कर दिया है। यानी प्रॉपर्टी की वैल्यू गिरने के बावजूद अगर कोई घर सर्किल रेट के कारण नहीं बिक पा रहा था तो अब वहां 20 फीसदी की छूट दी गई है, ताकि घर बिके और लोग रजिस्ट्री भी करवा सके। यह स्कीम 30 जून 2021 तक लागू होगी। कृषि क्षेत्र को राहत देते हुए वित्त मंत्री ने आज फर्टिलाइजर सब्सिडी का ऐलान किया है। सरकार ने कहा कि फर्टिलाइजर सब्सिडी के तौर पर वह 65,000 करोड़ रुपये देगी।

आत्मनिर्भर भारत रोजगार योजना का ऐलान
इस स्कीम को 1 अक्टूबर 2020 से लागू माना जाएगा। योजना अगले दो साल के लिए होगी। अगर कोई नया कर्मचारी EPFO रजिस्टर्ड संस्था में काम करना शुरू करता है और उसकी सैलरी 15,000 रुयपे या कम है तो उन्हें इस स्कीम का लाभ मिलेगा। साथ ही 1 मार्च 2020 से लेकर 30 सितंबर 2020 के बीच जिनकी नौकरी चली गई थी और एक अक्टूबर के बाद उन्हें फिर से रोजगार मिला गया तो भी उन्हें सरकार की इस स्कीम का लाभ मिलेगा।

18 हजार करोड़ से बनेंगे आवास
प्रधानमंत्री आवास योजना (शहरी) के तहत 2020-21 के बजट अनुमान के अतिरिक्त 18,000 करोड़ रुपये उपलब्ध कराने का ऐलान किया है। इस ऐलान से 12 लाख नये घर बनाने की शुरुआत होगी और 18 लाख घरों को पूरा कर लिया जाएगा। इसके अलावा सरकार को उम्मीद है कि 78 लाख नये रोजगार के अवसर पैदा होंगे।

1 COMMENT

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here