– 11 लाख की चरस और कार के साथ बागेश्वर पुलिस ने धरा

बागेश्वर, डीडीसी। चरस यानी काला सोना और अपराध की दुनिया में इसे इसी नाम से जाना जाता है। इसके काले कारोबारी अब बागेश्वर पुलिस की हिरासत में हैं। ये रंगे हाथ गिरफ्तार हुए और इनके पास से सौ-दो सौ ग्राम नहीं बल्कि साढ़े 11 किलो चरस बरामद हुई है। टुकड़ों-टुकड़ों में चरस जमा करने वाले ये काले कारोबारी इसे ऊंचे दाम में बेचते थे, लेकिन अब नही बेच पाएंगे। वजह, कि अब ये काले कारोबारी अपने सही ठिकाने यानी सलाखों के पीछे पहुंच चुके हैं। आरोपियों से बरामद चरस की कीमत 11 लाख से भी अधिक है।

नीलेश्वर तिराहे से हुई गिरफ्तारी
बागेश्वर के नीलेश्वर तिराहे पर आज एसआई भुवन चन्द्र जोशी, का. मनोज देवडी, का. प्रेम राम, का. केदार सिंह, का. भुवन चन्द्र वाहन चेकिंग में मशगूल थे। तभी वहां एक इनोवा कार संख्या UK07AG 8604 पहुंची। पुलिस देखते ही कार सवार घबरा गए और शक के लिए इतना ही काफी था। दोनों भागते इससे पहले ही पुलिस ने दोनों सवार को दबोच लिया और जब कार की तलाशी हुई तो दो बैग मिले। इन बैग में पुलिस को 11 किलो 587 ग्राम चरस मिली। इस चरस की कीमत 11,58,700 रुपये है।

गांव-गांव फेरी लगाकर जमा करते चरस
पुलिस अधीक्षक मणि कांत मिश्रा ने बताया कि अभियुक्तों का आपराधिक इतिहास खंगाला जा रहा है। गिरफ्त में आए अभियुक्तों में पूरन चन्द्र पोखरियाल पुत्र नन्दादत्त पोखरियाल ग्राम लोदिगॉव पौडी गढवाल (33) प्रदीप रावत (36) पुत्र प्रद्युमन रावत निवासी बांगखाल रांझावाला देहरादून है। दोनों पहाड़ पर फेरी लगा कर लोगों से बेहद सस्ते दाम चरस खरीदते और फिर इन्हें ऊंचे दामों में देहरादून और मैदानी इलाकों में बेच देते थे। पुलिस अधीक्षक ने गुड वर्क करने वाली टीम 1000 रुपये नगद इनाम की घोषणा की है।

 

--Advertisement--

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here