– 18 फरवरी को रैणी से मिली 1 महिला की लाश, टनल से 2 लाश और 1 मानव अंग

चमोली, डीडीसी। उत्तराखंड के चमोली जिले में आई आपदा को 11 दिन गुजर चुके हैं और 11 दिनों से लगातार रेस्क्यू जारी है। इन गुजरे दिनों में लाशों और उनके टुकड़ों के मिलने का सिलसिला बदस्तूर जारी है। गुरुवार को तपोवन टनल से 2 लाशें और 1 मानव अंग बरामद किया गया। जबकि रैणी से 1 महिला का शव भी मिला है। आपदा में लापता हुए 204 लोगों में से अब तक 61 लोगों के शव मिल चुके हैं। जबकि 27 मानव अंग भी मिले, जिनकी अभी तक पहचान नही हो पाई है। इसके अलावा 143 लोग अभी भी लापता है, जिनके जिंदा होने की उम्मीद गुजरते समय के साथ दम तोड़ चुकी है। दूसरी तरफ रैणी में ऋषिगंगा पावर प्रोजेक्ट, तपोवन में विष्णुगाड हाइड्रो प्रोजेक्ट के साथ नदी तटों के आस-पास लापता व्यक्तियों की खोजबीन जारी है।

मृतक व घायल परिवार तक पहुंचाई सहायता राशि
जिलाधिकारी स्वाति एस भदौरिया ने बताया कि मुख्यमंत्री के निर्देशों के अनुपालन में अब तक 26 मृतकों के परिजनों एवं 11 घायलों तक सहायता राशि तथा एक परिवार को गृह अनुदान राशि का वितरण किया गया है। इसके अलावा अभी कई शवों की शिनाख्त नही हो सकी है, जिसके लिए प्रयास किए जा रहे हैं। साथ ही पहचान के लिए डीएनए टेस्ट भी कराया जा रहा है।

पीड़ित परिवारों तक पहुंचाई जा रही हर मदद
प्रभावित क्षेत्रों में संचालित स्वास्थ्य शिविरों में अब तक 1929 लोगों का स्वास्थ्य परीक्षण किया गया। वही 124 पशु चिकित्सा के साथ-साथ पशुओं के चारे के लिए 61 फीड ब्लाक बांटे गए। प्रभावित परिवारों को 553 राशन किट, 2 बर्तन किट, 45 सोलर लाइट, 9 कम्बल वितरित किए गए। आपदाग्रस्त क्षेत्रों में विद्युत आपूर्ति एवं क्लोरीनेशन के उपरान्त पेयजल आपूर्ति सुचारू है। जिला प्रशासन की टीम आपदा प्रभावित क्षेत्रों में लापता लोगों के परिजनों को सहायता पहुंचाते हुए उनका स्वास्थ्य परीक्षण कर सांत्वना दे रहे है।

टनल में मुश्किल भरा है रेस्क्यू
आपदा के बाद एनडीआरएफ, एसडीआरएफ, सेना, आईटीबीपी, बीआरओ व पुलिस की कई टीमें आपदा ग्रस्त क्षेत्र में राहत व बचाव का कार्य में जुटी है। सुरंग में फंसे श्रमिकों को निकालने का पूरा प्रयास भी किया जा रहा हैं, लेकिन टनल के अंदर गाद व मलबा आने की वजह से सुरक्षाकर्मियों को काफी परेशानी का सामना करना पड़ रहा है।

प्रभावित क्षेत्रों में हालात सामान्य होने लगे है। जिलाधिकारी आपदा प्रभावित क्षेत्रों में रेस्क्यू कार्यो की रेग्यूलर माॅनिटरिंग कर रहे है। अभी तक मिले शवों में से 33 की शिनाख्त हो चुकी है। वृहस्पतिवार को 03 मृतकों की शिनाख्त हुई। जिसमें जगदीश तोमर पुत्र धूम सिंह निवासी कालसी देहरादून, विक्की भगत पुत्र कर्मदास भगत निवासी झारखंड तथा माधवी देवी पत्नी चेत सिंह निवासी जुगजू तपोवन चमोली शामिल है। वही दूसरी ओर चमोली में आज 01 शव तथा 01 मानव अंग का अंतिम दाह संस्कार किया गया।

--Advertisement--

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here