– हल्द्वानी तीन साल के मासूम की दर्दनाक मौत

हल्द्वानी, डीडीसी। दो बहनों के बाद महज 3 साल का राहुल बड़ी मुरादों के बाद पैदा हुआ। शनिवार को भाईदूज के दिन बहनें भाई को तिलक करने की तैयारी कर रही थीं। मां लाडले को बाथरूम में नहलाने ले गई थी। जहां मासूम की खौलते पानी से भरी बाल्टी में डूब कर मौत हो गई और भाईदूज का त्योहार मातम में तब्दील हो गया।

दो बहनों के बाद हुआ था भाई का जन्म
हल्द्वानी मेडिकल कॉलेज कैंपस में रहने वाले देवेंद्र भट्ट मूलरूप से गंगोलीहाट पिथौरागढ़ के रहने वाले थे और यहां प्रिंसिपल आवास में वार्ड बॉय थे। घर में पत्नी भावना, बेटी मिनाक्षी, प्रियांशी के साथ रहते हैं। दो बेटियों के बाद परिवार वालों की चाहत थी एक बेटा हो और बड़ी मिन्नतों के बाद राहुल का जन्म हुआ। वो महज तीन साल का था।

बहनें कर रही थी पूजन की तैयारी
शनिवार को भाई दूज था और भावना ने तीनों बच्चों के लिए सुबह नहाने का पानी गर्म किया था। भावना नहाने के लिए पहले राहुल को ले गई। ताकि जब तक वह राहुल को तैयार करेगी, तब तक दोनों बहनें भी नहा कर तैयार हो जाएंगी। राहुल नहा रहा था और बाहर बहनें भाई को टीका-चंदन करने की तैयारी में जुटीं थी।

राहुल को छटपटाता देख चीख पड़ी मां
मां ने राहुल के कपड़े उतारे और बेटे को जमीन पर छोड़ वह खड़ी हो गई। ताकि राहुल के कपड़ों को टांग सके। इस काम में महज पांच सेकेंड से कम का वक्त लगा और जैसे ही भावना की निगाह राहुल पर गई तो उसके होश फाख्ता हो गए। राहुल बाल्टी में रखे खौलते पानी में औंधे मुंह गिरकर छटपटा रहा था। यह देख कर ममता की भी चीख निकल पड़ी।

अस्पताल पहुंचा, लेकिन देर हो चुकी थी
मां ने फौरने बेटे को पानी से बाहर निकाला और मदद के लिए चीखती हुई राहुल को गोद में लेकर दौड़ पड़ी। राहुल अस्पताल तो पहुंचा, लेकिन तब तक देर हो चुकी थी। कुछ देर बाद ही उसकी मौत हो गई। चिकित्सकों ने बताया कि राहुल तीस प्रतिशत से अधिक झुलस गया था, जिसकी वजह से उसकी मौत हो गई।

भाई को तिलक नहीं कर सकीं बहनें
राहुल को जब मां भावना नहलाने के लिए बाथरूम में ले गई तो दोनों बहनें भाई दूज की तैयारियों में जुटी थीं। बहनों ने खुद पूजा की थाली तैयारी की थी। जिसमें फूल, टीका, चंदन और अक्षत रखा था। ताकि भाई जब नहा कर निकले तो उसे अपने सामने बैठा कर माथे में तिलक करें। परिवार की मानें तो दोनों बहनें इस दिन को लेकर बहुत उत्साहित थी, लेकिन मौत ने सारी ख्वाहिशें बिखेर डाली।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here