– सीएम बोले, हर व्यक्ति अपनी पसंद के परिधान पहनने के लिए स्वतंत्र है

देहरादून, डीडीसी। फटी जीन्स पर फिर बयान के बाद उत्तराखंड के मुख्यमंत्री तीरथ सिंह रावत इतना ट्रोल हुए कि मुद्दा राष्ट्रव्यापी बन गया। इस बयान के बाद तीरथ बॉलीवुड से लेकर राजनेता और समाजसेवियों के निशाने पर आ गए। शुक्रवार को सीएम तीरथ ने पूरे मामले का पटाक्षेप करने का प्रयास किया। सीएम खुद सामने आए और कहा कि अगर उनके बयान भावनाएं आहत हुई हैं तो वह माफी मांगते है। साथ ही यह भी कहा कि हर व्यक्ति अपनी पसंद के परिधान पहनने के लिए स्वतंत्र है।

मातृ शक्ति का सम्मान मेरे लिए सदैव सर्वोपरि
सीएम ने कहा कि परिधानों को लेकर उनकी टिप्पणी भारतीय मूल्य और संस्कृति को केंद्रित करते हुए थीं। उनका उद्देश्य किसी का अपमान करना नहीं था। मातृशक्ति का सम्मान मेरे लिए सदैव सर्वोपरि रहा है। उन्होंने कहा कि बयान के पीछे उनका मकसद मातृ शक्ति का अपमान नही था।

ऐसे शुरू हुआ फटी जींस का विवाद
यह विवाद मंगलवार को मुख्यमंत्री तीरथ रावत के उस बयान के बाद शुरू हुआ, जब उन्होंने देहरादून में बाल आयोग के एक कार्यक्रम में रिप्ड जींस को लेकर विवादित बयान दिया। मुख्यमंत्री ने कहा था कि, आज कल के युवा घुटनों पर फटी पैंट पहनकर खुद को बड़े बाप का बेटा समझते हैं। ऐसे फैशन में लड़कियां भी पीछे नहीं हैं। उन्होंने अपनी एक हवाई यात्रा का जिक्र करते हुए एक महिला सहयात्री की रिप्ड जींस को लेकर भी टिप्पणी की।

फटी जींस के बाद शॉर्ट्स पर विवाद
मुख्यमंत्री तीरथ सिंह रावत महिलाओं के पहनावे पर टिप्पणी के मामले में घिरते जा रहे हैं। इस मामले में उनका दूसरा वीडियो गुरुवार को वायरल हो गया। वीडियो में वह श्रीनगर के कालेज का किस्सा सुनाते हुए लड़कियों के शॉर्टस पर टिप्पणी करते सुनायी दे रहे हैं। तीन दिन पहले उन्होंने महिलाओं के ‘फटी जींस’ पहनने को लेकर टिप्पणी की थी। उनकी टिप्पणी का राज्य में जगह जगह विरोध हो रहा है।

तीरथ के बचाव में आईं पत्नी रश्मि
सीएम को घिरता देख उनकी पत्नी डॉ. रश्मि रावत बचाव को आगे आई हैं। उन्होंने कहा कि तीरथ ने जिस संदर्भ में यह बात कही है, उसका गलत मतलब निकाला गया है। उनके अनुसार, सिर्फ एक शब्द को पकड़कर विपक्षियों ने मुद्दा बना लिया है। तीरथ का मानना है कि महिलाओं की भागीदारी समाज और देश निर्माण के लिए अत्यंत ही महत्वपूर्ण है। महिलाएं हमारी सांस्कृतिक धरोहर को बचाएं, हमारी पहचान को बचाएं, हमारी वेशभूषा को बचाएं।

--Advertisement--

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here