– उत्तराखंड के सीएम त्रिवेंद्र सिंह रावत ने अपने चुनाव लड़ने की अटकलों पर लगाया विराम

देहरादून, डीडीसी। उत्तराखंड का मुख्यमंत्री बनने के बाद से इस बात पर चर्चा जोर शोर स्व चल रही है कि तीरथ सिंह रावत उपचुनाव कब लड़ेंगे। तो आज खुद सीएम तीरथ सिंह रावत ने इस चर्चा पर पूर्ण विराम लगा दिया है। सीएम ने कहा, वह चुनाव लड़ेंगे और हर हाल में लड़ेंगे। क्योंकि राज्य की जनता उन्हें बहुत प्यार करती है।

कई विधायक सीट छोड़ने को तैयार
सीएम ने कहा, प्रदेश के कई विधायक उपचुनाव के लिए सीट खाली करने को तैयार हैं। इस संबंध में केंद्र को अवगत करा दिया गया है। केंद्र जहां से कहेगा, वहीं से उप चुनाव लडूंगा। तैयारियां की जा रही हैं। जल्द ही उपचुनाव होगा। यह संवैधानिक लोकतांत्रिक प्रक्रिया है। इसके लिए पार्टी ने पूरी तैयारी कर ली है। पार्टी जहां से भी उपचुनाव लड़ाएगी, वहीं से लडूंगा।

सरकार के विकास से खुश है जनता
सीएम ने बताया कि प्रदेश में उनके चाहने वालों की कमी नहीं है। जनता भी विकास कार्यों से काफी खुश है। सरकार भी लोगों को योजनाओं का लाभ दे रही है। आपको बता दें कि मुख्यमंत्री तीरथ सिंह रावत के उप चुनाव लड़ने को लेकर भाजपा प्रदेश अध्यक्ष मदन कौशिक ने पार्टी का रुख स्पष्ट किया है। उन्होंने कहा, नियमानुसार चुनाव आयोग को चुनाव करवाना चाहिए। आयोग उपचुनाव की घोषणा करे पार्टी तैयार है।

मंत्री हो या मुख्यमंत्री, 6 माह का समय मिलता है
कौशिक ने संविधान की धारा 164(4) के विषय में बताया। कहा, संविधान में वर्णित हैं कि जो मुख्यमंत्री या मंत्री सदन का सदस्य नहीं है तो उनको 6 महीने में सदस्य बनना होता है। नहीं तो उसे पद से हटना होता। कहा कि संविधान में सभी व्यवस्थाएं है और उसी के अनुसार चुनाव आयोग को इस अवधि में चुनाव कराना होता है। प्रदेश में संवैधानिक संकट की कोई बात ही नहीं है। पार्टी के कार्यकर्ता बूथ स्तर तैयारी में जुटा हुआ है।

9 सितंबर तक है तीरथ के पास मोहलत
सल्ट उपचुनाव के परिणाम सामने आने के बाद अब, सीएम तीरथ सिंह रावत के चुनावी का इंतजार बढ़ा है। तीरथ को नौ सितंबर तक विधानसभा की सदस्यता लेनी है। इस लिहाज से उन्हें इसी महीने अपने लिए चुनावी क्षेत्र का भी चयन करना होगा। तीरथ सिंह रावत ने दस मार्च को सीएम पद की शपथ ली थी। चूंकि तीरथ अभी विधायक नहीं है, इसलिए उन्हें नौ सितंबर तक विधानसभा सदस्यता लेनी है।

मई तक कौन सा विधायक देगा बलिदान
अब जब सल्ट उपचुनाव का परिणाम निकल चुका है तो इस बात पर सस्पेंस और बढ़ गया है कि तीरथ के लिए कौन सा विधायक सीट खाली करेगा। निर्वाचन प्रक्रिया से जुड़े अधिकारियों के मुताबिक उपचुनाव में भी सामान्य तौर पर तीन से चार महीने का समय लग जाता है। ऐसे में यदि किसी सीट पर सितंबर में चुनाव कराना है तो इसके लिए, मई तक सीट रिक्त भी घोषित करनी होगी। दूसरी तरफ सितंबर में उपचुनाव हुए तो इसके चार महीने बाद दिसंबर अंत या जनवरी में प्रदेश में विधानसभा चुनाव की आचार संहिता लागू हो जाएगी। इस कारण सीएम के निर्वाचन में सबकी दिलचस्पी बढ़ गई है।

गंगोत्री सीट भी चल रही है रिक्त
गंगोत्री विधायक गोपाल सिंह रावत का भी गत 22 मार्च को निधन हो गया है। इस कारण यह सीट वर्तमान में रिक्त चल रही है। इस कारण गंगोत्री सीट से भी चुनाव लड़ने का विकल्प सीएम के सामने है। हालांकि गंगोत्री उनके लिए नया चुनावी रणक्षेत्र होगा। हालांकि अभी विधानसभा ने निर्वाचन आयोग को सीट रिक्त होने की सूचना नहीं दी है।

तीरथ ही होंगे भाजपा के सीएम कैंडिडेट
भाजपा प्रदेश अध्यक्ष मदन कौशिक ने आगामी विधानसभा चुनाव 2022 में पार्टी के सीएम कैंडिडेट को लेकर स्पष्ट बयान दिया है। कौशिक ने कहा कि तीरथ सिंह रावत वर्तमान मुख्यमंत्री हैं और जाहिर सी बात है कि वही अगले चुनाव में मुख्यमंत्री के उम्मीदवार होंगे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here