– नपुंसकता पर हुए ताजा शोध ने बढ़ाई चिंता

नई दिल्ली, डीडीसी। कोरोना की बढ़ती उम्र के साथ अब कोविड-19 के नए-नए साइडिफेक्ट भी सामने आ रहे हैं। कभी ब्लैक फंगस तो कभी व्हाइट फंगस जैसे संक्रमण ने मौतों का ग्राफ बढ़ाया। अब नई रिसर्च में एक और चैंकाने वाली बात सामने आई है। पता चला है कि पुरुषों की सेक्स लाइफ भी कोविड-19 से प्रभावित हो रही है। स्टडी के अनुसार कोरोना की वजह से पुरुषों में इरेक्टाइल डिसफंक्शन (Erectile dysfunction) यानी (impotence) नपुंसकता देखी जा रही है। इसकी वजह पोस्ट-कोविड (post-covid) स्ट्रेस, डिप्रेशन के साथ-साथ कुछ हद तक शरीर के अंदर होने वाले बदलाव भी शामिल हैं। आइए समझते हैं कि कोविड-19 किस हद तक पुरुषों की सेक्स ड्राइव (sex drive) प्रभावित हो रही है।

मेन्स हेल्थ में प्रकाशित हुई इरेक्टाइल डिस्फंक्शन पर स्टडी
मेन्स हेल्थ में छपी स्टडी में यूनिवर्सिटी ऑफ कैलिफोर्निया के यूरोलॉजिस्ट डॉ. हॉवर्ड ऑबर्ट कहते हैं कि यह समझने से पहले इरेक्शन की प्रक्रिया को समझना होगा। दरअसल, पेनिस (लिंग) तीन सिलेंडर से बना होता है। ऊपर के दो सिलेंडर स्पंज जैसे फैलने वाले टिश्यू से भरे होते हैं। वहीं, निचला सिलेंडर ब्लैडर से यूरिन को पास करता है। जब व्यक्ति उत्तेजित होता है तो वह नर्वस रेस्पॉन्स और उसकी वजह से शुरू होने वाली एक्टिविटी से होता है। इस दौरान ब्लड स्पंजी टिश्यू में आता है और वह फैल जाते हैं। सिस्टम कुछ ऐसा है कि ब्लड वहां आकर रुक जाता है। तब व्यक्ति को इरेक्शन महसूस होता है। इसके लिए जरूरी है कि नर्व से पर्याप्त मात्रा में नाइट्रिक ऑक्साइड निकलें। नसें इतनी खुलनी चाहिए कि उससे स्पीड से खून निकल सके। जब किसी कारण से पेनिस तक ब्लड नहीं पहुंच पाता तो उसमें इरेक्शन नहीं होता और इसे ही इरेक्टाइल डिसफंक्शन कहते हैं।

इन वजहों से होता है इरेक्टाइल डिसफंक्शन
इरेक्टाइल डिसफंक्शन के कई कारणों में स्ट्रेस, डिप्रेशन और परफॉर्मेंस संबंधी तनाव भी है, लेकिन अगर ब्लड फ्लो में कोई समस्या आ रही है तो इसका असर इरेक्शन पर हो सकता है। नर्वस सिस्टम में कोई गड़बड़ी या हॉर्मोन सेंसिटिविटी भी इसकी वजह हो सकती है। आम तौर पर इरेक्टाइल फंक्शन का संबंध सीधे-सीधे ब्लड सर्कुलेशन से होता है और इस वजह से इरेक्टाइल फंक्शन में कोई भी गड़बड़ी दिल की बीमारियों का संकेत भी हो सकती है। कोविड-19 की वजह से पूरे शरीर में ऑक्सीजन की सप्लाई बाधित होती है और ब्लड सर्कुलेशन पर सीधे-सीधे असर पड़ता है। पेनिस (Penis) को ब्लड सप्लाई करने वाली धमनियां (आर्टरी Artery) ब्लॉक या संकरी हो सकती है। अगर ऐसा हुआ और पेनिस तक ब्लड नहीं पहुंचेगा और तब इरेक्टाइल डिसफंक्शन हो सकता है।

पुरुषों की पोस्ट-कोविड सेक्शुअल लाइफ पर हुई स्टडी
मार्च 2021 में जर्नल एंड्रोलॉजी में ‘मास्क अप टू कीप इट अप’ हेडिंग से प्रकाशित रिसर्च पेपर में कोविड-19 और इरेक्टाइल डिसफंक्शन के संबंधों को बताया गया है। इटली के पुरुषों पर की गई यह स्टडी बताती है कि कोविड-19 की वजह से कार्डियोवस्कुलर सिस्टम को नुकसान पहुंचता है, जो पुरुषों में इरेक्शन पर असर डाल रहा है।

कई महीनों बाद भी मिला पेनिस में इंफेक्शन
वर्ल्ड जर्नल ऑफ मेन्स हेल्थ में प्रकाशित एक स्टडी का दावा है कि इन्फेक्शन के कई महीनों बाद भी पेनिस में इन्फेक्शन मिला है। दावा किया गया है कि कोविड-19 की वजह से शरीर के कई सेल्स के काम करने के तरीकों पर असर पड़ा है जो इरेक्टाइल डिसफंक्शन का कारण हो सकता है।

कोविड ने 2 तरह से प्रभावित की हेल्थ
कोविड-19 ने दो तरह से पुरुषों की हेल्थ को प्रभावित किया है। पहला सेक्शुअल हेल्थ और दूसरा मेंटल हेल्थ। महामारी ने लोगों को सामाजिक के साथ-साथ आर्थिक रूप से भी परेशान किया है। इससे स्ट्रेस, डिप्रेशन और एंग्जाइटी हो रही है। इसका असर पुरुषों की ओवरऑल हेल्थ, इरेक्टाइल डिसफंक्शन और फर्टिलिटी पर दिख रहा है।

अभी जरूरत है और रिसर्च की
विशेषज्ञों का कहना है कि कोविड-19 की वजह से कुछ नुकसान स्थायी हो रहे हैं, जबकि कुछ अस्थायी। इरेक्टाइल डिसफंक्शन स्थायी है या नहीं, इस बारे में और रिसर्च की जरूरत है। यह भी दावे के साथ नहीं कहा जा सकता कि कोविड-19 इन्फेक्शन से फर्टिलिटी प्रभावित होगी। उम्र भी एक फैक्टर हो सकता है। बढ़ती उम्र की वजह से इरेक्टाइल डिसफंक्शन और कोविड-19 की गंभीरता दोनों का खतरा होता है।

क्या भारत में भी सामने आ रहे केस
डॉक्टरों के पास अब ऐसे केस भारत मे भी आने लगे हैं। चिकित्सकों के पास इरेक्टाइल डिसफंक्शन की समस्या के साथ आने वाले मरीजों की संख्या बढ़ी है। दुनिया के कई हिस्सों में हुई स्टडी में यह साबित हुआ है कि कोविड-19 और इरेक्टाइल डिसफंक्शन का एक-दूसरे से गहरा संबंध है।

--Advertisement--

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here