– एक हफ्ते दो गुना हुई कोरोना मरीजों की संख्या को देखते हुए CM ने दिए आदेश

देहरादून, डीडीसी। महज एक हफ्ते के भीतर उत्तराखंड में कोरोना केस दो गुने हो गए। कोरोना की बढ़ती रफ्तार को देखते हुए मुख्यमंत्री तीरथ सिंह रावत ने मंगलवार को वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिये अधिकारियों को आदेश दिया। उन्होंने कहा कि उत्तराखंड की सीमाओं पर सख्ती बरती जाए। कोरोना प्रभावित राज्यों से आने वाले लोगों को बिना कोरोना निगेटिव रिपोर्ट के उत्तराखंड में एंट्री न दी जाए। इतना ही नही, मुख्यमंत्री ने (RTPCR) जांच का दायरा बढ़ाने और वैक्सिनेशन में तेजी लाने के आदेश भी दिए हैं। ताकि कोरोना की रफ्तार पर काबू पाया जा सके।

कंटेन्मेंट जोन बनाने के निर्देश
प्रदेश में कोरोनो के बढ़ते मामलों पर चिंता जताते हुए तीरथ ने कहा कि राज्य में जिन स्थानों पर कोरोना के मामले बढ़ रहे हैं, उन स्थानों पर कंटेनमेंट एवं माइक्रो कंटेनमेंट जोन बनाए जाएं एवं टीकाकरण पर विशेष ध्यान दिया जाए ताकि कोरोना वायरस को फैलने से रोका जा सके। हरिद्वार कुंभ स्नानों के दृष्टिगत हरिद्वार में वैक्सीनेशन और आरटी पीसीआर टेस्ट के लिए विशेष अभियान चलाने को कहा गया है।

कोरोना काल के 54वें हफ्ते में दो गुनी हुई संख्या
उत्तराखंड में कोरोना की रफ्तार में बेतहाशा इजाफा हुआ है और अगर यही रफ्तार रही तो यहां लॉकडाउन के अलावा कोई विकल्प नही होगा। इसे आप आंकड़ों से समझें। राज्य में कोरोना काल के 53वें सप्ताह में कुल 557 नए मरीज मिले थे। जबकि 54 वें सप्ताह में मरीजों की संख्या 1204 पहुंच गई है। मरीजों का ये आंकड़ा पिछले नौ हफ्ते में से एक हफ्ते में मिली सबसे अधिक संख्या है। हालांकि इस हफ्ते के दौरान 500 लोगों को कोरोना से मुक्ति भी मिली, लेकिन 5 लोगों की कोरोना की ही वजह से मौत भी हो गई।

उत्तराखंड को डरा रहे हैं दून और हरिद्वार
राज्य के देहरादून और हरिद्वार में संक्रमण के मामले सबसे तेजी से बढ़ रहे हैं और फिलहाल उत्तराखंड के लिए सबसे बड़ी चिंता की बात यही है। इस हफ्ते राज्य भर में कुल 77 हजार के करीब सैंपलों की ही जांच हो पाई है। इन सबके अलावा हरिद्वार कुंभ में उमड़ने वाली भीड़ भी चिंता का सबब है। हालांकि कुंभ में शामिल होने वालों को भी कोरोना की निगेटिव रिपोर्ट दिखानी होगी। इसके एक और चिंता चम्पावत जिले के टनकपुर में होने वाला पूर्णागिरि मेला है। जहां उत्तराखंड के लोगों के अलावा उत्तर प्रदेश के लोगों की बड़ी आस्था है और यहां कोरोना की निगेटिव रिपोर्ट नही चाहिए।

--Advertisement--

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here