– आबादी के हिसाब से देखा जाए तो दोनों राज्यों से कहीं ज्यादा तेजी से बढ़ रहे उत्तराखंड में केस

देहरादून, डीडीसी। केंद्र सरकार ने साफ कर दिया है कि लॉक डाउन नही लगेगा और उत्तराखंड सरकार ने भी यही संदेश जनता तक पहुंचाया। साथ ही कहा है कि जनता को कोविड नियमों का पालन करना होगा, लेकिन ऐसा हो नही रह है। यही वजह है कि उत्तराखंड ने कोरोना संक्रमण के मामले में उत्तर प्रदेश और गुजरात जैसे बड़े प्रदेशों को कहीं पीछे छोड़ दिया है।

4 महीने में मिलने थे जितने, उतने मिले 11 दिन में
राज्य में कोरोना की दूसरी लहर में संक्रमण की गति बहुत तेज है। राज्य में जब पिछले साल 15 मार्च को जब कोरोना संक्रमण शुरू हुआ था तो पांच हजार मरीजों का आंकड़ा छूने में पूरे चार महीने लगे थे। 15 जुलाई के आसपास राज्य में कुल मरीजों की संख्या पांच हजार के आसपास थी। लेकिन दूसरी लहर में इतनी संख्या में नए मरीज महज 11 दिन में ही आ गए हैं। ऐसे में राज्य में संक्रमण की स्थिति का अंदाजा लगाया जा सकता है। राज्य में इस साल 31 मार्च को कोरोना मरीजों की कुल संख्या 1800 के आसपास थी। जो 11 अप्रैल को बढ़कर 7323 पहुंच चुकी है। यानी 11 दिन में पांच हजार के करीब नए मरीज मिले हैं और यह संक्रमण में आई तेजी को दर्शाता है। हालांकि पिछले साल से इस बार सैंपलों की संख्या ज्यादा है, लेकिन सैंपलिंग भी इसीलिए ज्यादा हो रही है। क्योंकि संक्रमण की दर पिछले साल के मुकाबले खासी अधिक है। खासकर देहरादून में हालात तेजी से बिगड़ रहे हैं।

गंभीर संकट की ओर बढ़ रहा उत्तराखंड
कोरोना की दूसरी लहर के दौरान राज्य में संक्रमण चिंताजनक ढंग से बढ़ रहा है। पिछले 24 घंटे में सामने आए नए मरीजों को तुलनात्मक दृष्टि से देखें तो राज्य ने नए मरीजों के लिहाज से औसतन यूपी और गुजरात को भी पीछे छोड़ दिया है। यदि संक्रमण की यही स्थिति बनी रही तो आने वाले दिनों में राज्य के सामने गंभीर संकट खड़ा हो सकता है। रविवार को देशभर में आए कोरोना के नए मरीजों पर नजर डालें, तो राज्य की तकरीबन एक करोड़ आबादी में 1333 नए मरीज मिले हैं, जबकि सोमवार को भी उत्तराखंड में 1334 कोरोना के मरीज सामने आए हैं।

महाराष्ट्र, दिल्ली और छत्तीसगढ़ की हालत ज्यादा खराब
यूपी में 20 करोड़ की आबादी पर 15 हजार ही मरीज मिले हैं। इसी तरह गुजरात के आंकड़ों पर नजर डाले तो तकरीबन सात करोड़ की आबादी वाले गुजरात में केवल 5400 ही नए मरीज सामने आए हैं। हिमाचल में भी पिछले 24 घंटे के दौरान राज्य की तुलना में कम मरीज मिले हैं। हिमाचल की आबादी 70 लाख के करीब है, लेकिन वहां सिर्फ 554 ही नए मरीज मिले हैं। ऐसे में देखा जाए तो राज्य में संक्रमण के मामले काफी ज्यादा आ रहे हैं। वैसे संक्रमण की दृष्टि से देखा जाए तो देश में महाराष्ट्र, दिल्ली, छत्तीसगढ़ जैसे राज्यों की हालत सबसे ज्यादा खराब है।

पूरे प्रदेश को डरा रही महाकुंभ की भीड़
राज्य के हरिद्वार जिले में इस समय महाकुंभ आयोजित हो रहा है। जहां हर दिन लाखों की संख्या में लोग पहुंच रहे हैं। इससे भी राज्य में संक्रमण का खतरा बना हुआ है। हालांकि केंद्र सरकार ने महाकुंभ के लिए सख्त एसओपी जारी की है, लेकिन इसके बावजूद बड़ी संख्या में लोगों के पहुंचने से संक्रमण की स्थिति बनी हुई है। नैनीताल हाईकोर्ट ने हरिद्वार में हर दिन 50 हजार ITPCR जांच के निर्देश दिए थे, लेकिन एक अप्रैल से 11 अप्रैल के बीच देखें तो कभी भी एक दिन में 50 हजार जांचें नहीं हुई है। छह अप्रैल को एक ही दिन में 32 हजार जांचें हुई थी। उसके बाद अधिकतम 25 हजार जांच ही एक दिन में हो रही है। यदि 11 दिनों का औसत देखा जाए तो यह 20 हजार से ज्यादा नहीं है। ऐसे में कुंभ में संक्रमण फैलने का खतरा बना हुआ है।

--Advertisement--

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here