– संकट में जिंदगानी और UP में हो रही मौत पर पर्देदारी

भरत गुप्ता, लखनऊ (डीडीसी)। भारत मे कोरोना बेकाबू है और कुछ राज्यों में हालात बेहद गंभीर है। शमशाम फुल हैं और अंतिम संस्कार के लिए लाशों को लंबा इंतजार करना पड़ रहा है। ऐसा ही नाजुक घड़ी से देश का सबसे बड़ा राज्य उत्तर प्रदेश भी गुजर रहा है। अब यहां योगी सरकार अपनी नाकामी छिपाने के लिए कानून का सहारा ले रही है। गोरखपुर में तो बाकायदा पोस्टर, बैनर लगा दिये गए हैं कि शमशान घाटों की फोटो खींचना दंडनीय अपराध है। ये सब सिर्फ इसलिए कि यूपी से कोरोना की भयावह तस्वीर जनता के बीच न पहुंचे और साथ ही योगी सरकार की नाकामी भी। आपको याद होगा कुछ समय पहले लखनऊ के एक घाट का वीडियो वायरल होने के बाद अगली सुबह घाट को दीवार से ढक दिया गया था।

योगी के गढ़ में लटकाए नगर निगम ने बैनर
यूपी के श्मशान घाटों से अक्सर ऐसी तस्वीरें और वीडियो आते रहे हैं, जिसमें बड़ी संख्या में चिताएं जलती दिखाई देती हैं। प्रशासन का भी ध्यान मौतों को रोकने से ज्यादा आंकड़े छिपाने पर है. इसलिए प्रशासन श्मशान घाटों के बाहर बड़े-बड़े बैनर लगा रहा है, जिसमें चेतावनी लिखी है कि यहां फोटो या वीडियो लेना दंडनीय अपराध है। मामला गोरखपुर का है। जहां से सीएम योगी आदित्यनाथ सांसद रहे हैं। यहां के श्मशान घाटों के बाहर नगर निगम की तरफ से बैनर टांग दिए गए हैं। नगर निगम ने ऐसे एक-दो बैनर नहीं, बल्कि कई बैनर लगा रखे हैं। बैनर पर लिखा है, “शवदाह गृह पर पार्थिव शरीर का दाह संस्कार हिंदू रीति-रिवाज के अनुसार किया जा रहा है। कृपया फोटोग्राफी और वीडियोग्राफी ना करें। ऐसा करना दंडनीय अपराध है।”

भैसा कुंड श्मशान को भी ढका था टीन की दीवार से
इससे पहले लखनऊ के भैसा कुंड श्मशान घाट को नीली टीन से ढक दिया गया था, ताकि बाहर से कोई श्मशान घाट की तस्वीरें ना ले सके। अब ऐसी ही कोशिश गोरखपुर नगर निगम ने की है। गोरखपुर नगर निगम ने बैनर लगाकर यह जताने की कोशिश की है अगर आपने यहां पर तस्वीरें ली तो पकड़े जाने पर आपके ऊपर कानूनी कार्रवाई भी की जा सकती है। हालांकि, जब इन बैनरों की तस्वीरें सोशल मीडिया पर वायरल हुई और सरकार की आलोचना शुरू हुई, तो रातों रात इन बैनरों को हटा दिया गया।

शनिवार को आए 30 हजार से ज्यादा मामले
यूपी में शनिवार को बीते 24 घंटों में कोरोना के 30,317 नए मामले सामने आए और 303 लोगों की मौत हुई। सबसे ज्यादा 3,125 नए मामले राजधानी लखनऊ में सामने आए। वहीं, गोरखपुर में 1,070 नए मरीज मिले और 7 लोगों की जान गई। इसी के साथ यूपी में इलाज करा रहे मरीजों की संख्य बढ़कर 3,01,833 पहुंच गई।

--Advertisement--

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here