– प्रशासन में जारी किया अलर्ट, गंगा नदी से दूर रहने की हिदायत

चामोली, डीडीसी। आज चमोली जिले में ऋषिगंगा नदी पर बना डैम ग्लेशियर टूटने की वजह से टूट गया। पावर प्रोजेक्ट के डैम टूटते ही अलकनंदा नदी में प्रवाह बढ़ गया है और नदी ने तबाही मचानी शुरू कर दी। हालांकि अभी तक किसी तरह के जनहानि की सूचना नही है। खबर मिलते ही प्रशासन अपने काम मे जुट गया है। साथ ही चेतावनी जारी की गई है कि गंगा नदी किनारे न जाएं। चमोली जिले में जोशीमठ में नीति मार्ग पर एक निजी कंपनी का ऋषिगंगा नदी में पावर प्रोजेक्ट है। यहां करीब 24 मेगावाट बिजली का उत्पादन होता है। पहाड़ी से ग्लेशियर टूटकर इस डैम पर गिरा। इससे डैम क्षतिग्रस्त हो गया और डैम का पानी तेजी से अलकनंदा नदी में जाने लगा है।

खाली कराया गया कर्णप्रयाग बाजार
प्रशासन कर्णप्रयाग का बाजार खाली करवाने में स्थानीय प्रशासन जुट गया है। वही ये सूचना हरिद्वार जिले तक अलर्ट लेकर आई है। अभी तक कोई आधिकारिक जानकारी नही मिली है। हालांकि एक पावर डैम के पूरी तरह ध्वस्त होने की सूचना है।अनुमान के मुताबिक पानी के रिसाव के खतरे को देख एसडीआरफ को अलर्ट किया गया है। शासन स्तर पर आला अधिकारी भी मामले की जानकारी व योजना बनाने में जुट गए है।

पहाड़ से मैदान तक अलर्ट, खाली कराए जा रहे तट
डैम टूटने के बाद ऋषिकेश और हरिद्वार से लेकर मैदानी क्षेत्र तक अलर्ट जारी कर दिया गया है। डैम टूटने से अलकनंदा नदी का जल प्रवाह अप्रत्याशित रूप से बढ़ गया है। यहां आसपास रहने वालों को हटाया जा रहा है और बाजार खाली कराई जा रही है। इधर मैदानी क्षेत्र में बाढ़ जैसे हालात बन गए हैं। प्रशासन ने कर्णप्रयाग सहित तमाम नदी तट खाली कराने में जुटा है।

राज्य सरकार की घटना पर पूरी नजर
जोशीमठ से आगे ग्लेशियर टूटने की घटना पर मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत ने सचिव आपदा प्रबंधन और डीएम चमोली से पूरी जानकारी प्राप्त की। मुख्यमंत्री लगातार पूरी स्थिति पर नजर रखे हुए हैं। संबंधित सभी जिलों को अलर्ट कर दिया गया है। चमोली जिला प्रशासन, एसडीआरएफ के अधिकारी और कर्मचारी मौके पर पहुंच गये हैं। लोगों से अपील की जा रही है कि गंगा नदी के किनारे न जाएं।

कुछ घंटों ने जद में होगा हरिद्वार
बताया जा रहा है कि जिस रफ्तार से पानी आगे बढ़ रहा है वो अपने रास्ते मे आने वाली हर चीज को तबाह कर देगा। अलकनंदा नदी का प्रवाह बढ़ने से केंद्रीय जल आयोग ने अपनी सभी चौकियों पर अलर्ट जारी किया है। ऋषिकेश तथा हरिद्वार में 6 से 7 घंटे के भीतर इस पानी के पहुंचने का अनुमान लगाया जा रहा है।

--Advertisement--

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here