– हाई कोर्ट का भरोसा भी नही बचा सका 18 साल की लड़की की जान

जयपुर, डीडीसी। 18 साल की इस लड़की को दलित समुदाय के लड़के से प्यार हो गया। परिवार जब प्यार के खिलाफ खड़ा हुआ तो दोनों विरोधी परिवार से दूर भाग गए और ब्याह रचा लिया। वापस लौटे तो हाईकोर्ट से सुरक्षा लेकर, लेकिन हाई कोर्ट से मिला भरोसा भी लड़की को मौत से बचा नही पाया। लड़की को उसके अपने ही पिता ने गला घोंट कर मार डाला। इस मामले में पुलिस ने आरोपी को गिरफ्तार कर लिया है। मामला राजस्थान के दौसा का है।

बालिग होने का इंतजार कर रही थी पिंकी
दौसा निवासी शंकर लाल सैनी की बेटी पिंकी दलित समुदाय से ताल्लुक रखने वाले रोशन महावार से मोहब्बत करती थी और शादी भी करना चाहती थी। हालांकि उसे पता था कि उसकी ये तमन्ना उसके घरवाले कभी पूरी नही होने देंगे। वो खुद के बालिग होने का इंतजार कर रही थी और जब बालिग हुई तो सब कुछ छोड़ बीती 16 फरवरी को रोशन के साथ घर से भाग गई। 24 साल के रोशन ने 18 साल की पिंकी से 24 फरवरी को शादी कर ली, लेकिन फिर भी पिंकी को पता था कि वो सुरक्षित नही है।

कोर्ट से लगाई थी सुरक्षा की गुहार
24 फरवरी को ब्याह करने के बाद रोशन और पिंकी राजस्थान हाई कोर्ट के समक्ष पेश हुए। उन्होंने शादी और बालिग होने के प्रमाण पत्र कोर्ट के समक्ष पेश किए और जान का खतरा होने का अंदेशा जाहिर किया। पूरे मामले में हाईकोर्ट ने पुलिस को आदेश दिया कि वो प्रेमी युगल को सुरक्षा प्रदान करें और उन्हें सुरक्षित उस स्थान तक छोड़ कर आएं, जहां वे जाना चाहते है। ऐसा ही हुआ, पुलिस सुरक्षा में दोनों जयपुर चले गए, लेकिन मौत पिंकी को वापस दौसा खींच लाई।

1 मार्च ससुराल आई और उठा ले गया बाप
घरवालों के कहने पर रोशन 1 मार्च को पिंकी के साथ घर वापस आ गया। पिंकी के ससुराल पहुंचते ही इसकी भनक पिंकी के पिता शंकर लाल सैनी को लग गई और वो अपने तमाम रिश्तेदार और भाइयों के साथ पिंकी की ससुराल जा धमका। जबरन इन लोगों ने पिंकी को अगवा कर लिया और घर उठा लाए। जहां शंकर ने अपने ही हाथ से अपनी बेटी पिंकी का गला घोंट डाला।

न कोर्ट की सुनी, न कंट्रोल रूम की घंटी
पिंकी के अपहरण के अपहरण के तुरंत बाद रोशन ने घटना की सूचना पुलिस को दी, लेकिन 100 नम्बर सूचना के बाद भी पुलिस मौके पर नही पहुंची। 1 मार्च सोमवार को पिंकी का अपहरण हुआ और 3 मार्च बुधवार को शंकर लाल सैनी खुद थाने पहुंच गया और बोला कि उसने अपनी बेटी को मार डाला। इस मामले में पुलिस लापरवाह है। उसने न तो रोशन की शिकायत पर एक्शन लिया और न ही हाई कोर्ट के कपल को सुरक्षा देने वाले आदेश पर अमल किया।

--Advertisement--

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here