– लाल किले में उपद्रवी किसानों की दिल दहला देने वाली कहानी

डीडीसी, नई दिल्ली। ट्रैक्टर रैली के नाम पर गणतंत्र दिवस के दिन दिल्ली और लाल किले में जो हुआ, उससे देश शर्मसार है। हिंसा पर आमादा इन लोगों को जिसने भी रोकने की कोशिश की, वो इनका शिकार बन गया। ऐसा ही एक नाम एएसआई रमेश का है। रमेश भीड़ से घिरे थे और भीड़ इन्हें मार डालने पर आमादा थी। आप यकीन नही करेंगे कि रमेश ने खुद को अपने साथियों के साथ 2 घंटे तक बाथरूम में बंद रखा और गनीमत रही कि भीड़ के गुस्से से बाथरूम का गेट नहीं टूटा। किसानों की ट्रैक्टर रैली के नाम पर हिंसा का जो तांडव हुआ, उसकी तस्वीर अब सामने आ रही है।

2 घंटे किया भीड़ ने किया इंतजार
कोतवाली में तैनात एएसआई रमेश की माने तो करीब दो घंटे तक भीड़ शौचालय के बाहर डटी थी। भीड़ एएसआई का शौचालय से बाहर निकलने का इंतजार कर रही थी। भीड़ ने गेट भी तोड़ने की कोशिश की, लेकिन सफल नहीं हो पाए। पुलिस ने जब पूरे परिसर को अपने कब्जे में लिया, तब कहीं एएसआई रमेश बाहर निकल पाए।

निशाने पर एक्टर और गैंगेस्टर
किसानों की ट्रैक्टर परेड के दौरान भड़की हिंसा के मामले में पंजाबी एक्टर दीप सिद्धू और गैंगस्टर लक्खा सिधाना दिल्ली पुलिस के निशाने पर हैं। इन दोनों के खिलाफ मुकदमे भी दर्ज हो चुके हैं। दिल्ली पुलिस ने अब तक 25 से अधिक केस दर्ज किए हैं और 19 आरोपियों को गिरफ्तार किया है। आपको बता दें कि दिल्ली और लाल किले में हुई हिंसा के लिए फिलहाल दीप और लक्खा को कसूरवार माना जा रहा। पुलिस इन दोनों की भूमिका को सबसे अधिक संदिग्ध मान रही है और इनके खिलाफ जांच भी शुरू कर दी गई है।

ड्रोन से निगरानी, सुरक्षा के अतिरिक्त इंतजाम
हिंसा के बाद दिल्ली पुलिस सुरक्षा व्यवस्था को लेकर और भी मुस्तैद हो गई है। पूरे लाल किला परिसर की निगरानी में ड्रोन कैमरे तैनात कर दिए गए हैं। साथ ही लाल किला परिसर आम लोगों के लिए फिलहाल बंद कर दिया गया है। लाल किला की ओर आने वाले सभी चार रास्तों पर रेत भरे डम्पर खड़े कर दिए गए हैं। ताकि कोई जबरन न घुस सके।

--Advertisement--

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here