– हरीश रावत ने गौलापार के किसानों संग जाम किया था हाईवे

हल्द्वानी, डीडीसी। विधानसभा चुनाव से ठीक पहले उत्तराखंड के पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत पर हल्द्वानी में मुकदमे की तलवार लटक रही है। दो दिन पहले हरीश रावत ने गौलापार में किसानों के साथ मिलकर हाईवे जाम किया था। इस मामले में पुलिस ने 30 अज्ञात लोगों के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया है। पुलिस आरोपियों की पहचान में जुटी है और पहचान हुई तो हरीश रावत का नाम भी FIR में शामिल किया जा सकता है। हालांकि पुलिस इतना लोड लेगी नही।

दो घंटे तक जाम रखा था हाईवे
सिंचाई नहर ठीक करने की मांग को लेकर हाईवे जाम करने वाले ग्रामीण कानूनी पचड़े में पड़ गए हैं और साथ मे हरीश रावत भी। दो घंटे तक हाईवे जाम करने के मामले में पुलिस ने FIR दर्ज की है। शुक्रवार को हाईवे जाम मामले में पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत भी शामिल हुए थे।

आपदा में क्षतिग्रस्त हो गई हैं नहरें
बीते अक्टूबर में आई आपदा में गौलापार में सिंचाई नहरें क्षतिग्रस्त हो गईं थीं। जिन्हें ठीक कराने की ग्रामीण मांग कर रहे थे। इसके लिए ग्रामीणों ने जिलाधिकारी को भी पूर्व में ज्ञापन दिया था, लेकिन नहरें ठीक नहीं हुईं। जिससे नाराज ग्रामीण शुक्रवार को हाईवे पर उतर आए।

कालीचौड़ मंदिर के सामने लगाया था जाम
नाराज ग्रामीणों ने कालीचौड़ मंदिर के सामने हाईवे पर डेरा जमा लिया और सड़क जाम कर दी। करीब दो घंटे लगे जाम से कई किमी लंबा जाम लग गया। इस सूचना पर एसडीएम मनीष कुमार, सीओ शांतनु पराशर समेत बड़ी संख्या में पुलिस मौके पर पहुंच गई। इस बीच वहां पहुंचे पूर्व सीएम हरीश रावत भी धरने में शामिल हो गए। हालांकि बाद में अधिकारियों की वादे पर ग्रामीण सड़क से उठ गए और शनिवार को काठगोदाम पुलिस ने 25 से 30 अज्ञात लोगों के खिलाफ रिपोर्ट दर्ज कर ली।

147, 341 और 7 क्रिमिनल एक्ट में दर्ज हुआ मुकदमा
काठगोदाम थानाध्यक्ष विमल मिश्रा ने बताया कि हाईवे जाम करने के मामले में रिपोर्ट दर्ज कर जाम लगाने वालों की पहचान कराई जा रही है। जिसके बाद सभी के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी। अज्ञात आरोपियों के खिलाफ 147, 341 और 7 क्रिमिनल एक्ट के तहत दर्ज हुआ मुकदमा

--Advertisement--

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here