– विदेशी हसीनाओं के सॉफ्ट टारगेट बन रहे भारतीय

हल्द्वानी, डीडीसी। खूबसूरती के प्रति आकर्षित होना मानवीय गुण और इसी गुण को आजकर जालसाज कातिल हसीनाएं भुना रही हैं। इन विदेशी हसीनाओं का सबसे सॉफ्ट टारगेट भारतीय पुरुष बन रहे हैं। खासकर वे पुरुष जो अपनी उम्र के चालीस सावन देख चुके हैं। ताजा मामला हल्द्वानी के एक रिटायर्ड दरोगा से जुड़ा है, जो विदेशी हसीना के बहकावे में आकर लाखों रुपए गंवा चुके हैं। तो आइए देखते हैं कि ये कातिल हसीनाएं कैसे बिछाती हैं अपने हुस्न का जाल।

फेसबुक के संसार में तलाशे जाते हैं शिकार
फेसबुक का अपना एक अलग संसार है, जहां विदेश तक पहुंचने के लिए न वीजा चाहिए और न ही पासपोर्ट। जरुरत है तो सिर्फ फेसबुक एकाउंट की। जिसके जरिए आप आज संसार के किसी भी कोने में पहुंच सकते हैं। कातिल हसीनाएं इसी संसार में अपने लिए शिकार तलाशती हैं। जब इन हसीनाओं की फ्रेंड रिक्वेस्ट आती है तो आम भारतीय के मन में लड्डू फूटने लगते हैं। कातिल हसीना पहले आपके फेसबुक मैसेंजर और फिर आपके व्हाट्सएप तक पहुंच जाती है।

हर रोज आकर्षित करती है एक हसीन फोटो
लड़की खुद चल कर आती है तो लड़का खामखां लुटने को तैयार हो जाता है। कातिल हसीना हर रोज गुड मॉर्निंग के मैसेज के साथ अपना एक हसीन फोटो भेजती है। हर रोज एक ही लड़की के अलग-अलग फोटो दीवाना बनाने के लिए काफी होता है और ऐसे ही कातिल हसीना आपका विश्वास जीत लेती है। जब उसे भरोसा हो जाता है कि आपने उस पर भरोसा कर लिया है तो फिर वो बातें तो दोस्त की तरह करती है, लेकिन अपने शरीर से आपको आकर्षित करती है।

फिर जाहिर करती है आपसे मिलने की ख्वाहिश
एक ताजे मामले में कातिल हसीना खुद को लंदन की रहने वाली बताया और बताया कि वह सरकारी नौकरी करती है, लेकिन उसका ट्रांसफर होने वाला है और उसे एक हफ्ते की छुट्टी मिल रही है। वो इन छुट्टियों को आपके देश भारत में बिताना चाहती है। आप भरोसा कर लें, इसिलए वो आपको पहले अपना हवाई यात्रा का टिकट भेजती है और फिर एरोप्लेन में बैठा एक फोटो भी भेजती है। ताकि आप यकीन कर लें कि वो झूठ नहीं बल्कि सच में आपसे मिलने आ रही है।

एयरपोर्ट अथॉरिटी की ओर से मांगे जाते हैं पैसे
कातिल हसीना की यात्रा समाप्त होती है और फिर आपके पास इंदिरा गांधी इंटरनेशनल एयरपोर्ट अथॉरिटी से कॉल आता है। फोन पर कहा जाता है कि आपकी महिला मित्र को यहां रोक लिया गया है। बताया जाता है कि आपकी दोस्त के पास यहां फीस भरने के लिए पर्याप्त पैसे नहीं है। फिर आपकी महिला मित्र आपके सामने गिड़गिड़ाती है और यकीन दिलाती है कि आपके सिवा उसका यहां कोई नहीं है। फिर अमूमन आम भारतीय भावनाओं में बह जाता है।

एकाउंट नंबर भेज कर डलवाए जाते हैं पैसे
जब आप भावनाओं में बह कर मदद को तैयार हो जाते हैं तो आपके मोबाइल पर एक एकाउंट नंबर और आईएफएससी कोड भेजा जाता है। आपसे कहा जाता है कि आप इस खाते में पैसे ट्रांसफर कर दीजिए। जिसके बाद कागजी कार्रवाई पूरी कर आपकी दोस्त को छोड़ दिया जाएगा। कातिल हसीना भी वादा करती है कि वो आपके पैसे लौटा देगी, लेकिन जैसे ही आपके खाते से पैसे ट्रांसफर होते हैं तो फिर न तो कातिल हसीना मिलती है और न ही पैसे वापस।

गिफ्ट भेजने के नाम पर लूट लिए जाते हैं लोग
जालसाज कातिलों के पास आपको लूटने का सिर्फ यही एक तरीका नहीं है। कई बार विदेशी हसीनाएं आपको गिफ्ट भेजने के नाम पर लूटती हैं। आपसे कहा जाता है कि आपका गिफ्ट आया है, लेकिन आपको टैक्स भरना होगा। या फिर कातिल हसीनाएं आपसे ये कहती हैं कि वो आपके साथ भारत में बिजनेस करना चाहती है, लेकिन ये आपके बिना संभव नहीं है। वो विदेश में बैठकर आपसे बिजनेस के नाम पर लाखों रुपए अपने खाते में डलवा कर आपको कंगाल कर देती है।

--Advertisement--

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here