– सभी राजनीतिक दल पुरानी पेंशन बहाली के मुद्दे को अपने मैनिफेस्टो में प्रमुख स्थान दें : डॉ. डीसी पसबोला

देहरादून, डीडीसी। हाल ही में उत्तर प्रदेश में समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष अखिलेश यादव ने सरकार बनने पर पुरानी पेंशन बहाल की जाएगी और इसे घोषणा पत्र में भी शामिल किया जाएगा। इस पर राष्ट्रीय पुरानी पेंशन बहाली संयुक्त मोर्चा उत्तराखंड के प्रदेश वरिष्ठ उपाध्यक्ष डॉ. डीसी पसबोला ने आभार व्यक्त किया है और कहा है कि उत्तराखंड, उत्तर प्रदेश, पंजाब, गोवा और मणिपुर में विधानसभा चुनाव होने हैं। जहां एनपीएस कार्मिकों की अहम भूमिका होगी। एनपीएस कार्मिक उस राजनीतिक दल को अपना वोट देने का मन बना चुके हैं, जिनके घोषणा पत्र में पुरानी पेंशन बहाली का मुद्दे को स्थान दिया जाएगा।

पेंशन के लिए रोड शो से सदन तक कार्यक्रम किए
डॉ. पसबोला ने बताया कि समाजवादी पार्टी की तरह ही भाजपा, कांग्रेस, बसपा, आप आदि पार्टियों को भी एनपीएस कार्मिकों का मर्म समझते हुए घोषणा पत्र में पुरानी पेंशन बहाली की मांग को प्रमुखता से रखना चाहिए। तभी पार्टियां एनपीएस कार्मिकों का भरोसा जीतने में कामयाब हो पाएंगी। उत्तराखंड सहित विभिन्न राज्यों में एनपीएस कार्मिकों ने पुरानी पेंशन बहाली के लिए रोड शो से लेकर सदन तक अनेकों कार्यक्रम कर अपनी मांग को प्रमुखता से उठाया है।

हैशटैग वोट फॉर ओपीएस
आज पुरानी पेंशन बहाली का मुद्दा देश प्रदेश का सबसे प्रमुख मुद्दा बन गया है। जिसे अब नजरंदाज नहीं किया जा सकता है। अब वक्त आ गया है जब सभी राजनीतिक पार्टियों को पुरानी पेंशन बहाली की मांग को गंभीरता से लेना ही होगा। एनपीएस कार्मिक मार्च में विधानसभा चुनावों के परिणाम के बाद हर तरह की लड़ाई लड़ने को तैयार हैं। अभी भी हैशटैग वोट फॉर ओपीएस अभियान द्वारा अपना मांग रख रहे हैं और चुनाव परिणामों के बाद आंदोलन ओर तेज किए जाएंगे।

राष्ट्रीय अध्यक्ष बी पी सिंह रावत, प्रान्तीय महासचिव सीताराम पोखरियाल, प्रदेश प्रभारी विक्रम रावत, प्रदेश कानूनी सलाहकार डॉ० अजय चमोला ने भी समाजवादी पार्टी की घोषणा का स्वागत करते हुए आभार व्यक्त किया गया है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here