– हरिद्वार के 107 गंगा घाटों पर स्नान करने वालों की संख्या तय

हरिद्वार, डीडीसी। कुंभ (Kumbh) की तैयारियां अंतिम दौर में है और श्रद्धालुओं का उत्साह चरम पर। कुंभ में शामिल होने को लेकर अभी भी तमाम लोग गलतफहमी में है। इस बीच आज कुंभ स्नान करने वालों की संख्या तय कर दी गई है। हरिद्वार (Haridwar) के 107 घाटों से सबसे प्रमुख एक घाट हरकी पैड़ी की करें तो इस घाट पर एक समय में केवल 20 हजार श्रद्धालु ही स्नान कर पाएंगे। इससे अधिक श्रद्धालुओं को हरकी पैड़ी पर तब तक एंट्री (Entry) नहीं दी जाएगी, जब तक गंगा घाट में भीड़ कम न हो जाए।

कोर्ट के दखल पर सीमित हुई संख्या
कुंभ मेले में कोरोना को लेकर हाईकोर्ट (High Court) के सख्त होने के बाद मेला पुलिस ने हरकी पैड़ी और अन्य गंगा घाटों पर स्नान करने के लिए श्रद्धालुओं की सीमित संख्या निर्धारित कर दी है। सोशल डिस्टेंसिंग (Social Distancing) का पालन करने के लिए यह नियम लागू किया जा रहा है।

आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस के रडार पर होगी भीड़
इतनी बड़ी भीड़ को एक-एक मैन्युअली गिनना बेहद पेचीदा काम है। इस लिए अब भारी भीड़ आर्टिफिशियल इंटेलीजेंस (Artificial Intelligence) के रडार पर होगी। इसके लिए पुलिस हरकी पैड़ी और मुख्य गंगा घाटों पर आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस सॉफ्टवेयर इंस्टॉल कर रही हैं। ये सॉफ्टवेयर 20 हजार से अधिक भीड़ होने पर मेला पुलिस को अलर्ट कर देगा।

107 घाटों पर करेंगे 1.09 लाख लोग
हरिद्वार के 107 गंगा घाटों पर एक बार में 1.09 लाख लोग स्नान कर सकेंगे। हरकी पैड़ी में ये संख्या 20 हजार होगी। ऐसे ही मालवीय घाट पर 12.825, अस्थी प्रवाह में 1125 और ब्रह्मकुंड और महिला घाट में करीब 5 से 6 हजार श्रद्धालु स्नान कर पाएंगे। जबकि पहले एक बार में 60 हजार से अधिक लोग स्नान कर सकते थे।

लाल लाइट यानी No Entry
यह नई तकनीकी है। सॉफ्टवेयर आसानी से भीड़ के बारे में कंट्रोल रूम को बता देगा। मेला पुलिस की ओर से 20 हजार लोगों की संख्या सॉफ्टवेयर में निर्धारित की गई है। 20 हजार से एक भी श्रद्धालु अधिक होने पर यह सॉफ्टवेयर पुलिस को अलर्ट कर देगा। लाल रंग की लाइट कंट्रोल रूम में जल जाएगी। ये संकेत भीड़ अधिक होने का है। लाल लाइट के जलते ही पुलिस पीछे से आने वाले लोगों को रोक देगी। इन लोगों को तभी एंट्री दी जाएगी जब घाट में 20 हजार से कम यात्री होंगे।

50 से अधिक कैमरों में इंस्टॉल होगा सॉफ्टवेयर
यह सॉफ्टवेयर को हरकी पैड़ी के आसपास और कुछ मुख्य गंगा घाटों में ही लगाया जाएगा। करीब 50 कैमरों से इसे जोड़ा जाएगा। ये सब केवल सोशल डिस्टेंस के साथ कुंभ स्नान कराने के लिए किया जा रहा है। पुलिस ने आम जन से इस कार्य में सहयोग की अपील की है। ताकि महामारी के दौर में सभी सुरक्षित रहें।

--Advertisement--

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here