– नई गाइड लाइन जारी, एसओपी के उल्लंघन पर दर्ज होगा मुकदमा

हरिद्वार, डीडीसी। गंगा में डुबकी लगाओ और सारे पाप हरिद्वार जा कर धूल आओ, लेकिन इससे पहले पुलिस से पंजीकरण कराओ। जी हां, अगर हरिद्वार कुंभ मेला-2021 में शामिल होने का सोच रहे हैं तो आपको केंद्र और राज्य सरकार द्वारा जारी नियम का कड़ाई से पालन करना होगा। कोरोना को देखते हुए उठाए जा रहे सरकारी कदमों में अगर आप साथ नही देंगे तो आपको जेल की हवा खानी पड़ सकती है। तो एसओपी का पालन कीजिए और हरिद्वार जाने से पहले पुलिस से पंजीकरण करा कर ई-पास जरूर लें। आइए बताते हैं कि आपको हरिद्वार जाने से पहले आपको और क्या-क्या करना होगा?

पुलिस की वेबसाइट पर अपलोड करें दस्तावेज
यात्रियों को हरिद्वार आने से पहले कुंभ मेला प्रशासन या हरिद्वार पुलिस की वेबसाइट पर पंजीकरण करवाना होगा। इसके लिए उन्हें कोविड जांच, मेडिकल सर्टिफिकेट सहित अन्य दस्तावेज अपलोड करने होंगे। इसके बाद उन्हें ई-पास जारी किया जाएगा। मेला क्षेत्र में कहीं भी यात्रियों से ई पास की मांग की जा सकती है। इसलिए पंजीकरण जरूरी है और अगर आप सोच रहें कि जुगाड़ से गंगा स्नान हो जाएगा तो ये गलतफहमी जल्द से जल्द अपने दिमाग से निकाल दें।

एंट्री प्वाइंट पर दिखानी होगी निगेटिव कोविड रिपोर्ट
मुख्य सचिव ओमप्रकाश की ओर से जारी गाइडलाइन में स्पष्ट किया गया है कि मेला में आने वाले यात्रियों को 72 घंटे के भीतर कराई गई आरटीपीसीआर जांच की निगेटिव रिपोर्ट दिखानी होगी। इस रिपोर्ट को उन्हें एंट्री प्वाइंट पर प्रस्तुत करना होगा। इसके बाद ही यात्रियों को मेला परिसर में दाखिल होने दिया जाएगा।

एसओपी के उल्लंघन पर लिखा जाएगा मुकदमा
हरिद्वार कुंभ में कोविड एसओपी का उल्लंघन होने पर दोषियों के खिलाफ मुकदमा दर्ज कराया जाएगा। आपदा प्रबंधन विभाग ने कुंभ के लिए एसओपी जारी करते हुए यह साफ कर दिया है कि ये प्रतिबंध कुंभ मेला क्षेत्र में और मेला अवधि तक ही लागू रहेगा। कुंभ मेला को कोविड संक्रमण से बचाने के लिए आपदा प्रबंधन विभाग ने केंद्र सरकार के दिशा-निर्देश की तर्ज पर विस्तृत गाइडलाइन जारी कर दी हैं। एसओपी के उल्लंघन पर आपदा प्रबंधन एक्ट और आईपीसी की धाराओं के तहत मुकदमा दर्ज किया जाएगा।

विदेशी करेंगे स्वास्थ्य मंत्रालय की गाइड लाइन का पालन
विदेश से आने वाले यात्रियों को उनके लिए स्वास्थ्य मंत्रालय की ओर से तय गाइडलाइन का पालन करना होगा। सरकार ने फिर जोर देकर कहा है कि यात्रियों को आपस में छह फीट की दूरी और मास्क का प्रयोग हर हाल में करना होगा। उक्त सभी प्रतिबंध सिर्फ मेला क्षेत्र में मेला अवधि के दौरान ही लागू होंगे। सचिव आपदा प्रबंधन एसए मुरुगेशन ने बताया कि पूर्व में जारी दिशा निर्देशों को ही और अधिक विस्तार से जारी किया गया है। उन्होंने बताया कि अन्य राज्यों को भी एसओपी प्रचार प्रसार के लिए भेजी गई है।

--Advertisement--

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here