– मंगलवार को मुख्य सचिव ओम प्रकाश ने की इस बात की पुष्टि

हरिद्वार, डीडीसी। लंबी अवधि तक चलने वाला कुंभ मेला इस दफा जरा सीमित होगा। इस बात को लेकर राज्य सरकार तैयारी कर चुकी है और जल्द ही इसकी अधिसूचना जारी कर दी जाएगी। मंगलवार को मुख्य सचिव ओम प्रकाश ने इस बात की पुष्टि करते हुए कहा कि हरिद्वार कुंभ मेला 2021 केवल 1 माह तक ही आयोजित किया जाएगा। इस मामले में एसओपी पहले ही जारी की जा चुकी है।

जिसका रजिस्ट्रेशन नही, उसे स्नान नही
कुंभ मेला 2021 में बिना रजिस्ट्रेशन के किसी को भी गंगा में डुबकी लगाने की इजाजत नही होगी। और तो और अगर आपको वाकई गंगा स्नान करना है तो रजिस्ट्रेशन के साथ कोविड निगेटिव रिपोर्ट भी साथ लानी होगी। इसके बाद ही आपको प्रवेश मिलेगा। श्रद्धालुओं को ऑनलाइन ही पास जारी किए जाएंगे। रजिस्ट्रेशन के लिए www.haridwarkumbhmela2021.com पर आवेदन कर सकते हैं।

सरकार के फैसले से संत और व्यापारी खफा
नई व्यवस्था को लेकर अब गहमागहमी का माहौल बन रहा है। 1 माह का सीमित समय गंगा में डुबकी लगाने वालों के गले नही उतर रहा, वहीं चर्चा है कि 1 माह की व्यवस्था से व्यापारी और संत समाज भी नाराज हो रहा है। सीधी बात यह कि सरकार पहले ही गंगा स्नान को लेकर घाटों पर आने वाले श्रद्धालुओं की संख्या सीमित कर चुकी है। जिसका असर व्यापार पर पड़ना तय माना जा रहा है। दरअसल माना जा रहा है कि इस नई व्यवस्था से व्यापार घटेगा और लॉक डाउन के बाद से व्यापारियों की हालत पहले से खस्ता है।

न भंडारा होगा और न भी भजन-कीर्तन
एक खास बात और कि इस दफा हरिद्वार के घाटों पर किसी भी तरह का सामूहिक भजन-कीर्तन प्रतिबंधित है। इसके अलावा भंडारे जैसे कार्यक्रम भी आयोजित नही किए जा सकेंगे। आपको बता दें कि पूर्व में लोग स्नान के बाद घाट पर ही खिचड़ी इत्यादि बनाकर खाने को शूभ मानते थे और भजन कीर्तन करते थे। जबकि तमाम संस्थाएं भंडारे का आयोजन भी करती थीं। जो इस दफा नही होगा।

--Advertisement--

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here