– हरिद्वार में केंद्र सरकार द्वारा जारी गाइड लाइन को अपना कर होगा स्नान

देहरादून, डीडीसी। कोरोना की राजधानी बना चीन (China) का वुहान (Wuhan) और भारत में कोरोना फैलाने के लिए दिल्ली का मरकज़ (Markaz) सुर्खियों में रहा। अब हरिद्वार (Haridwar) में कुंभ (Kumbha) की शुरुआत होने जा रही है। ऐसे में उत्तराखंड (Uttarakhand) के मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र रावत ने जनता से अपील की है और कहा है कि गंगा में आस्था की डुबकी लगाएं और इस बात का ध्यान रखें कि हरिद्वार वुहान और मरकज़ न बनने पाए। इसके लिए जरूरी है कि केंद्र सरकार ने जो गाइड लाइन कुंभ के लिए जारी की हैं, उसका शत प्रतिशत पालन हो।

पहले भी महामारी की वजह बन चुका है कुंभ
सीएम त्रिवेंद्र ने ने कहा कि हमारी पहली प्राथमिकता कोविड से लड़ाई को लेकर है और प्रयास यही है कि कोरोना निगेटिव रिपोर्ट के बिना कोई भी कुंभ या हरिद्वार में प्रवेश न दिया जाए। उन्होंने कहा कि एक बार कुंभ के दौरान महामारी फैल चुकी है, जिसमें हजारों लोग मारे गए थे। भारत सरकार ने गाइड लाइन जारी की है। ताकि कुंभ संक्रमण का कारण न बनें। भारत ने कोविड संक्रमण को लेकर दुनिया के सामने मिसाल पेश की है और हम सब की जिम्मेदारी है कि इसे बरकरार रखा जाए।

रामायण और हरिद्वार की थीम पर हो रही सजावट
सीएम ने कहा कि हरिद्वार न सिर्फ आस्था का केंद्र है, बल्कि ये आध्यात्मिक राजधानी है। कुंभ के दौरान हरिद्वार में न सिर्फ देशवासी बल्कि विदेशी भी बड़ी संख्या में आते हैं। ऐसे में हरिद्वार का बाहरी स्वरूप भी आध्यात्मिक होना चाहिए। हरिद्वार में सजावट उत्तराखंड व रामायण की थीम पर की गई है, ताकि श्रद्धालुओं के मन में श्रद्धा का भाव और बढ़ सके।

कल्चर के रंग में रंगा जा रहा हरिद्वार
विपक्ष लगातार हरिद्वार में कुंभ की तैयारियों को लेकर सवाल खड़े करता रहा है। आज सीएम त्रिवेंद्र ने विपक्ष को करारा जवाब दिया और कहा कि सवाल खड़े करने वालों को पहले निर्माण स्थल पर जाना चाहिए, उसके बाद सवाल करने चाहिए। वैसे तो विपक्ष वही कर रहा है, जो उसे करना चाहिए। उन्होंने कहा, हमारे लिए सबसे जरूरी चीज जन का मन है। सरकार बेहतर तरीके से हरिद्वार में सुविधाएं जुटा रही है और स्थायी कामों पर ध्यान दे रही है। कुल मिलाकर हरिद्वार को एक कलर कल्चर देने का काम किया है।

--Advertisement--

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here