– 14 साल पहले बिंदुखत्ता में की थी बड़ी बेटी की शादी, एक सप्ताह पहले हुए बेटी के तलाक से थे तनाव में

हल्द्वानी, डीडीसी। बेटी की शादीशुदा जिंदगी के 14 सालों का रिश्ता टूटा तो एक पिता की आस भी टूट गई। बेटी की खुशियों को ग्रहण लगता देख पिता को बर्दाश्त नहीं हुआ और उसने जहर की गोलियां निगल कर जान दे दी। सूचना पर एसटीएच पहुंची पुलिस ने गुरुवार पोस्टमार्टम के बाद शव परिजनों के सुपुर्द कर दिया।

जयपुर बिस्व मोटाहल्दू निवासी जमन सिंह खत्री (54) पुत्र राम सिंह खत्री पेशे से किसान थे। वह यहां अपनी पत्नी हेमा देवी, बेटे पंकज, योगेश, बहू प्रियंका व नाती के साथ रहते थे। वह कई साल पहले अपनी दो बेटियों दिव्या की बिंदुखत्ता व नेहा की नानकमत्ता में शादी कर चुके थे।

बड़े बेटे पंकज ने बताया कि 14 साल बाद बड़ी बहन दिव्या का अपने पति मनोज से एक सप्ताह पहले तलाक हो गया था। मनोज दिव्या को छोटी बहन के घर छोड़ गया था। जहां से वह अपने पिता के घर आ गई। इस तलाक की वजह से जमन सिंह काफी परेशान थे।

बीते बुधवार को जमन नाई की दुकान जाने की बात कह कर निकले थे और लौटे तो अपने कमरे में बैठकर नाती को खिलाने लगे। उन्होंने चाय पी और फिर उन्हें उल्टियां शुरू हो गईं। हालत बिगड़ते ही उन्हें उपचार के लिए एसटीएच ले जाया गया। जहां रात उनकी मौत हो गई। पंकज ने बताया कि जमन की जेब से सल्फाज की दो शीशियां मिली थी।

आखिरी बार नाती को खिलाया गोद में
हल्द्वानी। जमन जब घर लौटे तो उनका नाती अपने पिता पंकज के साथ बाहर दुकान में बैठा था। पंकज ने बताया कि जब वह घर आए तो जहर खा चुके थे। घर पहुंचते ही उन्होंने नाती को दुकान से लिया और गोद में लेकर अपने कमरे में चले गए। जहां उन्होंने अपने नाती को दुलार किया और फिर इसी के बात उनकी हालत खराब होने लगी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here