– बिहार और उत्तर प्रदेश में गंगा नदी में फेंके गए 100 से ज़्यादा शव मिले हैं।
– ICMR प्रमुख बलराम भार्गव ने कहा है कि राष्ट्रीय स्तर पर कोविड संक्रमण की दर 21 फ़ीसदी है, जबकि 734 में 310 ज़िलों में संक्रमण दर चिंताजनक।
– कोविड संकट के देखते हुए मूडी ने भारत में आर्थिक वृद्धि दर का अनुमान 13.7 फ़ीसदी से घटाकर 9.3 फ़ीसदी कर दिया है।
– दिल्ली में कोविड से मरने वालों की संख्या 20 हज़ार पार हुई।
– पिछले केवल दो हफ़्तों में 5000 लोगों की मौत हुई है।

बक्सर, डीडीसी। बिहार के चौसा में गंगा नदी के महादेव घाट के आसपास कई शव मिलने के एक दिन बाद मंगलवार को 71 और शव मिले, जिन्हें बक्सर ज़िला प्रशासन ने पोस्टमॉर्टम के बाद दफ़्न करवाया। बक्सर ज़िला प्रशासन ने अपनी तरफ़ से जारी एक प्रेस रिलीज़ में कहा है, ”हमें 71 शव मिले, जिन्हें पोस्टमॉर्टम के बाद दफ़्न करवा दिया गया। डीएनए सैंपल सुरक्षित रख लिया गया है। भविष्य में ऐसी घटनाएं ना हों इसके लिए ज़िला प्रशासन सतर्क है। अधिकारियों से कहा गया है कि गंगा नदी के किनारे गश्त दल को सक्रिय किया जाए।”

इतनी खराब थी लाशें कि घाट पर करना पड़ा पोस्टमार्टम
बक्सर ज़िला प्रशासन ने कहा है कि चौसा में शवों की अंत्येष्टि के लिए लड़की की कोई कमी नहीं है, जबकि ग्रामीणों का कहना है कि लकड़ी की ऊंची क़ीमत ली जा रही है इसलिए लोग नदी में फेंक दे रहे हैं। इससे पहले बक्सर ज़िला के एसपी नीरज कुमार सिंह ने मीडिया से कहा था कि शवों की हालत बहुत ख़राब थी और घाट पर ही पोस्टमॉर्टम किया गया।

मंत्री बोले, शवों से संक्रमण का खतरा
मोदी सरकार में जल शक्ति मंत्री गजेंद्र सिंह शेखावत ने गंगा नदी में शव फेंके जाने को दुर्भाग्यपूर्ण बताया है। उन्होंने राज्यों से कहा है कि वे इस मामले को गंभीरता से लें। शेखावत ने कहा, ”यह निश्चिच तौर पर जांच का मामला है। मोदी सरकार माँ गंगा की निर्मलता और अविरल प्रवाह को लेकर प्रतिबद्ध है। इस तरह से अधजले शवों को गंगा में फेंकने से न केवल नदी प्रदूषित होगी बल्कि संक्रमण फैलने का भी डर है।”

मंगलवार को गाजीपुर में भी मिले थे क्षत-विक्षत शव
यह मामला केवल बिहार के चौसा का ही नहीं है बल्कि मंगलवार को उत्तर प्रदेश के ग़ाज़ीपुर ज़िले में भी क्षत-विक्षत अवस्था में कम से कम दो दर्जन शव मिले। ज़िला प्रशासन शवों की शिनाख्त करने की कोशिश कर रहा है कि ये कोविड पीड़ित थे या नहीं। ज़िला प्रशासन का कहना है कि ये शव 10 से 15 दिन पुराने हैं। उधर बलिया बिहार की सीमा पर भी गंगा नदी के किनारे दर्जनों शव मिलने की बात कही जा रही है।

--Advertisement--

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here