– ग्रेटर नोएडा वेस्ट के 4 गांवों में कहर बरपा रहा खांसी, जुखाम, बुखार

नोएडा, डीडीसी। शहर से गांव की ओर रूख कर चुके कोरोना वायरस ने अब यहां भी कहर बरपाना शुरू कर दिया है। ताजा मामला ग्रेटर नोएडा के 4 गांवों से जुड़ा है, जहां केवल 20 दिन में 65 लोग काल के गाल में समा गए। इससे पहले उत्तर प्रदेश के कानपुर से सटे घाटमपुर इलाके के एक गांव में भी ऐसा ही कहर बरपा था। जहां कुछ ही दिन में एक गांव के 30 लोग मर गए थे। ग्रेटर नोएडा में मरने वाले सर्दी, खांसी, जुखाम और बुखार से पीड़ित थे। जबकि अभी भी तमाम सारे लोग इन्हीं लक्षणों से पीड़ित हैं और सरकार मौन। मामला ग्रेटर नोएडा वेस्ट के गांवों से जुड़ा है।

खैरपुर गुर्जर में 1 परिवार के 4 लोगों की मौत
खैरपुर गुर्जर गांव के ग्रामीणों ने बताया कि 15 दिनों में 25 से अधिक लोगों की मौत हुई है। इनमें अधिकतर को बुखार, खांसी, जुकाम औरहाथ-पैर में दर्द की शिकायत थी। एक हफ्ते में गांव के राजेश शर्मा के परिवार के चार लोगों की मौत हो गई। इन लोगों को पहले बुखार आया और फिर सांस लेने में दिक्कत हुई। गांव की पश्चिम दिशा की बस्ती में अधिक लोगों की मौत हुई है। मरने वालों में 35 से 50 वर्ष से अधिक उम्र के लोग शामिल हैं। मौतों की जानकारी प्रशासन और ग्रेटर नोएडा प्राधिकरण के अधिकारियों को दी गई, लेकिन अभी तक सेनेटाइजेशन नहीं किया गया है।

ज्वालापुर में 15 दिन में 25 मरे
गांव जलालपुर में भी 15 दिनों में 25 लोगों की मौत हो चुकी है। 28 अप्रैल से हालात अधिक बिगड़े हैं। इस गांव में भी लोग बुखार, खांसी, जुकाम से पीड़ित है। ये अभी लक्षण कोरोना के हैं, लेकिन जांच किसी ने नही कराई और न ही स्थानीय प्रशासन इस काम के लिए आगे आया।

जांच करवाने से बच रहे लोग
गांव सैनी में पिछले 20 दिनों में 10 से अधिक लोगों की मौत हो चुकी है। इस गांव के लोग भी खांसी, जुकाम व बुखार से पीड़ित हैं। गांव के लोग जांच कराने से कतरा रहे हैं, जबकि उनसे कोरोना जैसे लक्षण है।

100 से अधिक लोग बुखार की चपेट में
ग्रेनो वेस्ट के गांव मिलक लच्छी में इस समय 100 से अधिक लोग बुखार की चपेट में हैं। लोगों को बुखार, खांसी व जुकाम है। तीन हजार की आबादी वाले गांव में सेनेटाइजेशन के नाम पर खाना पूर्ति हुई है। गांव के डॉ. सुरेश नागर ने बताया कि उनके घर पर 4 लोग कोरोना से पीड़ित हैं। इलाज चल रहा है। गांव में 15 दिनों में पांच लोगों की मौत हो चुकी है। गांव में जांच कैंप लगाया जाना चाहिए।

--Advertisement--

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here