– लेकिन उत्तराखंड में दाखिल होने से 15 दिन पहले लेने होंगे वैक्सीन के दोनों डोज

देहरादून, डीडीसी। शहरों की चकाचौंध से लोग बोर होते हैं तो पहाड़ की हंसी वादियों में सुकून तलाशने निकल पड़ते है, लेकिन कोरोना काल में वादियों के दीदार से पहले इस बात का सर्टिफिकेट देना पड़ता है कि आप कोरोना पॉजिटिव नही हैं। हालांकि उत्तराखंड सैर सपाटे के लिए आने वाले पर्यटकों को अब कोरोना की निगेटिव रिपोर्ट नही दिखानी होगी। पर्यटक अब बिना रिपोर्ट और रोक टोक के वादियों का दीदार कर सकेंगे, लेकिन ये खास छूट सिर्फ उन पर्यटकों के लिए होगी, जिन्होंने उत्तराखंड आने से 15 दिन पहले कोरोना वैक्सीन को दोनों डोज लगवा ली होंगी। आइए जानते हैं इस मामले को लेकर उत्तराखंड के मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने और क्या कहा है।

निगेटिव रिपोर्ट नही तो नहीं होंगे दीदार
कोरोना संक्रमण दर में कमी के बाद सरकार ने कोविड कर्फ्यू में अन्य राज्यों से आने वालों को राहत दी है। इसके तहत कोरोना वैक्सीन की दोनों डोज लगाने के 15 दिन बाद यहां आने वाले व्यक्तियों को हवाई अड्डा, रेलवे स्टेशन और बार्डर चेकपोस्ट पर अब कोविड की निगेटिव रिपोर्ट नही दिखानी होगी। बल्कि ऐसे लोग सिर्फ वैक्सीनेशन का प्रमाणपत्र दिखाएंगे। जिसके बाद उन्हें राज्य में प्रवेश दे दिया जाएगा। इसके अलावा परेशानी उन लोगों को होगी, जिन्होंने अभी तक वैक्सीन नही लगवाई है। ऐसे लोग जब उत्तराखंड में दाखिल होंगे तो उन्हें कोरोना की निगेटिव रिपोर्ट साथ रखनी होगी। यदि रिपोर्ट नही होगी तो आप हंसी वादियों का दीदार भी नही कर पाएंगे।

सीएम पुष्कर सिंह धामी ने साफ की स्थिति
इस मामले में मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी का कहना है कि वैक्सीन की डबल डोज ले चुके अन्य राज्यों के व्यक्तियों पर ही कोरोना जांच की निगेटिव रिपोर्ट का नियम लागू नहीं होगा। प्रदेश में कोरोना संक्रमण की संभावित तीसरी लहर से निपटने के लिए सरकार ने पूरी व्यवस्था की है। मुख्यमंत्री ने कहा कि स्कूल खोलने के निर्णय पर कहा कि यह फैसला लेने से पहले सरकार ने पूरी समीक्षा की है। दूसरे राज्यों की स्थिति का भी अध्ययन किया गया। सरकार ने प्रदेश के हित व आने वाली पीढ़ी को ध्यान में रखते हुए यह निर्णय लिया है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here