– कोविड नियम ताक पर रख कर घूम रहे थे सपा विधायक इरफान सोलंकी

भरत गुप्ता, डीडीसी। रुतबा सिर पर सवार था, क्योंकि बाबू जी विधायक हैं और विधायक जी बीती रविवार रात कोविड नियमों को ताक पर रख जनता के बीच पहुंच गए। माननीय विधायक जी के मुंह पर मास्क नही था और जब पुलिस ने उन्हें इस गलती के लिए टोंका तो विधायक जी का ईगो हर्ट हो गया। वो पुलिस से उलझ गए और गुस्सा सिर पर इतना चढ़ा कि पुलिसवालों को पीटने पर आमादा हो गए। उन्हें ये भी याद नही रहा कि बावर्दी पुलिसवाले को हाथ लगाना कितना बड़ा जुर्म है। ये हैं कानपुर से समाजवादी पार्टी के विधायक इरफान सोलंकी।

कार्यकर्ता भी वैसा, जैसा विधायक
हुआ यूं था कि रविवार रात विधायक का एक कार्यकर्ता बिना हेलमेट, बिना मास्क बाइक पर फर्राटा भर रहा था। चमनगंज के दलेलपुरवा में पुलिस ने रोका और चालान काटने लगी। युवक ने विधायक का रौब दिखाया, लेकिन पुलिस नही मानी। युवक ने विधायक को फोन लगा दिया। विधायक ने पुलिस से युवक को छोड़ने को कहा, लेकिन पुलिस ने इनकार कर दिया। इस विधायक ने पुलिस से कहा, वहीं रुकना आता हूं। 15 मिनट बाद विधायक मौके पर पहुंच गए और वो भी बिल्कुल अपने कार्यकर्ता की तरह बिना मास्क के कोविड नियमों की धज्जियां उड़ाते।

भीड़ के बीच समझाने से नाराज हुआ विधायक
विधायक इरफान सोलंकी ने मुंह पर मास्क नही लगाया था। जबकि उत्तर प्रदेश में कोरोना का कहर चरम पर है। ऐसे में विधायक ने न सिर्फ खुद की जान खतरे में डाली और बल्कि जनता को भी कोरोना खतरे में भी डाल दिया। फिर जब इसी बात को लेकर पुलिस ने विधायक को टोंक दिया तो उनका ईगो हर्ट हो गया और बखेड़ा खड़ा हो गया।

बोले, तमीज नही विधायक से बात करने की
भीड़ के बीच पुलिस के दखल और कोरोना नियमों का पाठ पढ़ाने से विधायक को लगा कि भरे समाज उनकी बेइज्जती हो गई। फिर तो उनका गुस्सा पुलिस पर फूट पड़ा और बोले कि तुम लोगों को एक जनप्रतिनिधि से बात करने की तमीज नही है। मौजूद पुलिस कर्मी बोले भी कि उन्होंने उनके सम्मान में कोई कमी नही की, लेकिन विधायक का गुस्सा शांत नही हुआ। वह पुलिस वालों स्व भिड़ गए। इसी बीच पीछे से एक और पुलिस वाले ने उन्हें अपनी ओर खींचा तो विधायक उसे मारने के लिए दौड़ पड़े। ये पूरा मामला वीडियो में कैद हुआ और अब वायरल है।

नही माने तो काट दिया विधायक का चालान
इतनी हुज्जत के बाद भी विधायक जी को अपनी गलती का एहसास नही हुआ। उल्टा वह और भड़क गए। जिसके बाद मौके पर मौजूद पुकिस कर्मियों ने इसकी सूचना पुलिस कमिश्नर असीम अरुण को दी और पूरा घटनाक्रम बताया। जिसके बाद पुलिस कमिश्नर ने तत्काल विधायक का चालान करने का आदेश दे दिया और मौके पर ही विधायक का 1 हजार का चालान कगत दिया गया। कमिश्नर ने चालान काटने वाले पुलिस कर्मियों को नगद पुरस्कार से नवाजा है।

सोशल मीडिया पर जनता भड़काने की साजिश
विधायक इरफान सोलंकी का चालान कटने के बाद मौके पर ही समर्थकों ने इरफान जिंदाबाद के नारे लगने लगे। माहौल को पुलिस के खिलाफ बनाने की कोशिश की गई। धमकाया गया कि इस कार्यवाही के खिलाफ पूरे शहर में आंदोलन होगा और इरफान कार्यकर्ताओं ने सोशल मीडिया पर मोर्चा संभाल लिया। विधायक के समर्थन और पुलिस की खिलाफत करते पोस्ट सोशल मीडिया पर वायरल किए जाने लगे।

विवादों के पुराने यार है विधायक इरफान
विधायक इरफान सोलंकी की गुंडई का आज वीडियो वायरल हुआ, लेकिन विधायक के लिए ये कोई नई बात नही है। क्योंकि विधायक इरफान का विवादों से पुराना याराना है। पूर्व की समाजवादी सरकार में इन्होंने जूनियर डॉक्टर कांड किया, जो देश में चर्चित हुआ। जबकि बसपा सरकार में कानपुर की केस्को MD रहीं IAS ऋतु माहेश्वरी से भी विधायक जी बदत्तमीजी कर सुर्खियां बटोर चुके है। बहरहाल, पुलिस कमिश्नर असीम अरुण ने कहा है कि विधायक इरफान सोलंकी का चालान हो चुका है और अब वो चालान जमा कर समाज को एक स्वस्थ संदेश दें।

2 COMMENTS

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here