– ग्रामीणों ने गांव में बीमारी फैलने का दोषी मान लिया था दम्पति को

औरंगाबाद, डीडीसी। अंधविश्वास किस कदर लोगों पर हावी हो जाता इसके कई किस्से आपने सुने होंगे जो दिल दहला देने वाले होते है। अक्सर ग्रामीण क्षेत्रों में तंत्र मन्त्र , झाड़-फूंक के चक्कर में लोग ऐसे काम कर देते है जिनपर यकीन करना ही मुश्किल है। हाल ही में बिहार में एक ऐसा ही मामला सामने आया है जिसने हैवानियत की साडी हदें पार की कर दी।

पारंपरिक हथियारों से की दम्पति को हत्या
बिहार के औरंगाबाद जिले के मदनपुर थाना क्षेत्र में तंत्र-मंत्र के चक्कर में बुधवार को गांव के ही लोगों ने पारंपरिक हथियारों से काटकर एक दंपति की हत्या कर दी। पुलिस अब पूरे मामले की जांच कर रही है।
पुलिस के एक अधिकारी ने बताया कि जमुआइन गांव के रहने वाले फकीरा भुइयां ओझा गुणी का काम करता था। इसी गांव के ही कुछ लोगों की तबियत खराब हुई और आरोप लगाया गया कि फकीरा के कारण ही इनलोगों की तबियत खराब हुई है।

दिन में झगड़ा, रात समझौता और सुबह कत्ल
मंगलवार को इसी बात को लेकर गांव के लोगों और फकीरा के बीच जमकर झगडा हुआ, लेकिन रात को फिर दोनों पक्षों में समझौता हो गया। इधर, आरोप है कि बुधवार की सुबह गांव के 10-12 लोग टांगी, गड़ासा व कुदाल से लैस होकर फकीरा के घर पहुंचे और फकीरा (62) और उसकी पत्नी पनवा देवी (55) की हत्या कर दी।

अंधविश्वास के एंगल पर शुरू हुई तफ्तीश
मदनुपर के थाना प्रभारी आनंद कुमार गुप्ता ने आईएएनएस को बताया कि घटना की सूचना मिलने के बाद पहुंची पुलिस ने दोनों शवों को अपने कब्जे में कर पोस्टमार्टम के लिए अस्पताल भेज दिया है तथा पूरे मामले की छानबीन की जा रही है। उन्होंने बताया कि प्रथम दृष्टया हत्या का कारण अंधविश्वास बताया जा रहा है। इस मामले में गांव के ही कुछ लोगों को हिरासत में लेकर पूछताछ की जा रही है।

--Advertisement--

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here