नैनीताल : महाविद्यालय को आसरा दिया, उसने इंटर कालेज कब्जा लिय

– पिछले 16 साल से धारी ब्लॉक के इंटर कालेज भवन में चल रहे दोषापानी महाविद्यालय में सांकेतिक तालाबंदी

नैनीताल, डीडीसी। बात सिर्फ इतनी थी बच्चोंनक भविष्य उज्ज्वल हो। वो पढ़ लिख कर देवभूमि का नाम रोशन करें। इसलिए 16 साल पहले एक इंटर कालेज में महाविद्यालय को आसरा दिया गया। क्योंकि तब महाविद्यालय के पास अपनी इमारत नही थी। अब महाविद्यालय के पास अपनी इमारत है, लेकिन मुफ्त में मिले इंटर कालेज की इमारत को अब वो खाली नही करना चाहता। महाविद्यालय की मनमानी से उक्ता चुके लोगों ने आज इमारत में सांकेतिक तालाबंदी की और चेतावनी दी कि अगर इंटर कालेज की इमारत खाली नही हुई तो महाविद्यालय में हमेशा के लिए ताला लगा दिया जाएगा।

महाविद्यालय की मनमानी और दुश्वारियां झेल रहे बच्चे
धारी ब्लाक में स्थिति डूंगर सिंह बिष्ट आगर इंटर कालेज और दोषापानी महाविद्यालय एक ही इमारत में संचालित हैं। 16 साल पहले जब महाविद्यालय यहां शुरू हुआ तो इंटर कालेज में बच्चों की संख्या कम थी और महाविद्यालय में भी बच्चे सीमित थे। 16 साल गुजरे तो बच्चों की संख्या में भी इजाफा हुआ। अब इंटर कालेज और महाविद्यालय में कुल बच्चों की संख्या 700 से अधिक है। ऐसे में बच्चों के बैठने के लिए इमारत में पर्याप्त जगह ही नही बची। कुल मिलाकर महाविद्यालय मनमानी कर रहा है और दुश्वारियां बच्चे झेल रहे हैं।

4 साल से वीरान पड़ी है महाविद्यालय की इमारत
गुस्साए विद्यालय प्रबंधक गोपाल बिष्ट व अभिभावकों ने सोमवार को दोषापानी महाविद्यालय में सांकेतिक तालाबंदी की। बाद में एक सूत्रीय ज्ञापन प्रमुख सचिव उच्च शिक्षा को भेजा। प्रदर्शन का नेतृत्व कर रहे इंटर कालेज के प्रबंधक, पूर्व जिला पंचायत सदस्य एवं वरिष्ठ कांग्रेसी नेता गोपाल सिंह बिष्ट ने कहा है कि सालों से राजकीय महाविद्यालय दोषापानी का संचालन इंटर कालेज के भवन में हो रहा है। जबकि चार साल पहले ही महाविद्यालय का अपना भवन बन चुका है। फिर भी उच्च शिक्षा निदेशालय, दोषापानी महाविद्यालय को स्थानांतरित नहीं कर रहा। जबकि उच्च शिक्षा निदेशक आदेश कर चुके हैं।

दो क्लास रूम बनवाए, वो भी कब्जा लिए
प्रबंधक गोपाल बिष्ट का कहना है कि छात्र संख्या लगातार बढ़ रही है। जिसकी वजह से क्लास रूम कम पड़ गए और बच्चों की पढ़ाई प्रभावित होने लगी। बच्चों के भविष्य को देखते हुए मजबूरन इंटर कालेज में दो अतिरिक्त क्लास रूम बनवाने पड़े और उन्हें भी महाविद्यालय ने अपने कब्जे में ले लिया। बिष्ट ने कहा कि यदि अब भी महाविद्यालय प्रशासन ने कालेज के भवन को खाली नहीं किया तो उग्र आंदोलन किया जाएगा।

31 मार्च तक की मोहलत दी है
सोमवार को महाविद्यालय में सांकेतिक तालाबंदी करने वालों ने स्पष्ट तौर पर कहा है कि महाविद्यालय को हर हाल में इमारत खाली करनी होगी। इसके लिए उनके पास 31 मार्च तक का वक्त है। तय तारीख के बाद भी इमारत खाली न हुई तो जब इमारत खाली कराई जाएगी। तालांबदी करने वालों में प्रबंधक गोपाल बिष्ट, आन सिंह, प्रताप सिंह, देवेंद्र सिंह, गंगा सिंह, किशन राम, कृष्णा देवी, मालती देवी, राम सिंह आदि शामिल थे।

--Advertisement--

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here