– हरिद्वार में छिपा है कत्ल का आरोपी ओलंपियन पहलवान सुशील कुमार

नई दिल्ली, डीडीसी। पहलवान सागर धनखड़ हत्याकांड मामले में फरार मुख्य आरोपी ओलंपियन सुशील कुमार का सुराग पुलिस को लग चुका है। पहलवान देश के एक बड़े योग गुरु को शरण में है और योग गुरु के ही हरिद्वार स्थित आश्रम में छिपा है। सुशील के खासमखास रहे रोहतक निवासी भूरा ने इस राज से पर्दा उठाया है। भूरा ने और भी बहुत कुछ पुलिस को बताया है, लेकिन पुलिस अभी इस पर चुप्पी साधे हुए है।

भूरा ने सुशील को छोड़ा था आश्रम
पुलिस का कहना है कि भूरा को सुशील ने भले ही किनारे कर दिया हो, लेकिन दोनों के बीच झगड़ा नहीं है। चार मई की देर रात छत्रसाल स्टेडियम में पहलवान सागर धनखड़ की हत्या के बाद सुशील और उसके साथ आए सभी पहलवान वहां से भाग गए थे। सभी अलग-अलग जगहों पर जाकर छिप गए थे। अगले दिन सुबह 10 बजे सागर की सुश्रुत ट्रामा सेंटर में मौत हो गई और पुलिस ने मुकदमा दर्ज कर लिया। जिसमें सुशील का नाम भी है।जिसके बाद सभी अलग-अलग दिल्ली से भाग निकले। अजय ने सुशील को समयपुर बादली छोड़ा। यहां सुशील ने फोन कर भूरा को बुलाया और बाबा के आश्रम हरिद्वार में छोड़ने को कहा। भूरा उसे सीधे आश्रम ले गया और कुछ देर आश्रम में रुकने के बाद भूरा वापस रोहतक लौट गया।

कॉल डिटेल में फंसा भूरा
आश्रम पहुचने के बाद सुशील ने अपने सभी फोन बंद कर लिए, लेकिन वह बहुत बड़ी गलती कर चुका था। सुशील ने अपना फोन उस वक्त तक ऑन रखा, जब तक वह सुरक्षित ठिकाने तक नही पहुंच गया और फोन ऑन रखना ही उसकी सबसे बड़ी गलती थी। पुलिस ने जब सुशील का फोन ट्रेस करना शुरू किया तो उसकी आखिरी लोकेशन हरिद्वार की मिली। जिसके बाद सुशील की कॉल डिटेल को खंगाला गया और इस कॉल डिटेल में भूरा का नम्बर भी पुलिस को मिल गया। जिसके बाद पुकिस ने उसे रोहतक से हिरासत में ले लिया गया और पूछताछ शुरू की तो एक-एक कर सारे राज से पर्दा उठने लगा।

बाबा ने फोन किया और सुशील को बचाने को कहा
भूरा से तीन दिन तक सुभाष प्लेस थाने में पूछताछ की गई। उसने बताया कि बाबा ने उसके सामने दिल्ली पुलिस के एक संयुक्त आयुक्त को फोन कर सुशील को हर हाल में बचाने को कहा। पुलिस ने भूरा और अन्य दो से लगातार तीन दिन तक पूछताछ की और जब तक पड़ताल पूरी नही हुई, तीनो को पुलिस कस्टडी में रखा गया। पुलिस के सन्तुष्ट होने के बाद भूरा और दो अन्य को मंगलवार को छोड़ दिया गया।

पहलवान सागर के शरीर पर मिले 50 से अधिक गहरे घाव
छत्रसाल स्टेडियम में बीते चार मई की रात ओलंपियन सुशील पूरी तैयारी के साथ पहलवानों और बदमाशों को लेकर उभरते हुए पहलवान सागर धनखड़ की हत्या करने आया था। सागर के शरीर पर मिले चोट के निशान से परिजनों का कहना है कि सुनियोजित तरीके से उसकी हत्या की गई। पोस्टमार्टम रिपोर्ट के मुताबिक सागर की छाती को छोड़कर पूरे शरीर पर लाठी और लोहे की रॉड से मारने के घाव थे। पैर से लेकर सिर तक 50 से अधिक गहरे घाव के निशान थे और सिर पर सबसे ज्यादा वार किया गया था।

सीसीटीवी में सागर को मारता दिखा सुशील
परिजन का आरोप है कि स्टेडियम के सीसीटीवी में सुशील की तस्वीर भी सागर को बुरी तरीके से मारते हुए कैद है। घटना वाली रात सागर के जिन तीन साथियों सोनू, भगत सिंह व अमित की भी सुशील के बदमाशों ने पिटाई की थी। शनिवार को उन सभी के बयान मॉडल टाउन थाने में दर्ज किए गए।

--Advertisement--

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here