– पंजाब के रोपड़ में भाखड़ा नहर में बहती मिली 671 संदिग्ध रेमडेसिविर

रोपड़ (पंजाब), डीडीसी। कोरोना काल के कोरोना संक्रमण रोकने में सबसे कारगर मानी जा रही रेमडिसिवर के लिए पूरे देश मे मारामारी है। आलम ये है कि इंजेक्शन ब्लैक में बिक रहे हैं और भारी मांग को देखते हुए काले कारोबारियों ने नकली इंजेक्शन तक बाजार में उतार दिए। भारी कमी पर सरकारों को कोर्ट का कोपभाजन बनना पड़ रहा है और पंजाब जिंदगी की दवा रेमडिसिवर नहर में बहती देखी गई। इनकी संख्या सैकड़ो में है और वीडियो वायरल। आप भी देखिए वीडियो।

रेमडिसिवर के साथ मिले सरकारी सप्लाई वाले सैफापेराजोन
रेमडेसिविर इंजेक्शन की बड़ी खेप पंजाब, रोपड़ के गांव सलेमपुर स्थित भाखड़ा नहर से मिली। इसके साथ ही सरकारी सप्लाई वाले इंजेक्शन सैफापेराजोन की खेप भी नहर से मिली है। सलेमपुर निवासी भाग सिंह ने रेमडेसिविर इंजेक्शनों की खेप देखी तो सूचना पुलिस व स्वास्थ्य विभाग को दी।

सैफापेराजोन के 1456 इंजेक्शन मिले
स्वास्थ्य विभाग के ड्रग इंस्पेक्टर तेजिंदर सिंह ने बताया कि रेमडेसिविर के करीब 671 इंजेक्शन मिले हैं। शुरुआती जांच में ये नकली लग रहे हैं। नहर से 1456 से भी अधिक एंटीबायोटिक इंजेक्शन सैफापेराजोन की खेप भी मिली है, जबकि 849 बिना लेवल वाले इंजेक्शन हैं, जिनके प्रिंट पानी में धुल चुके थे। इन पर सरकारी आपूर्ति लिखा है। यह सरकारी आपूर्ति किस राज्य के लिए है, इस बारे में कुछ नहीं लिखा है।

--Advertisement--

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here