स्पोर्ट्स डेस्क, डीडीसी। भारत के पूर्व दिग्गज विकेटकीपर सैयद किरमानी (Syed Kirmani) ने ऋषभ पंत (Rishabh Pant) को बल्लेबाज के तौर पर प्रतिभा का खजाना करार दिया, लेकिन विकेटकीपर के तौर पर इस खिलाड़ी की तुलना पालने के बच्चे से कर दी। ऑस्ट्रेलिया में भारतीय टीम को श्रृंखला जिताने में नायक रहे पंत की बल्लेबाजी की अकसर तारीफ होती है। जबकि विकेट के पीछे उनका प्रदर्शन अक्सर उन्हें आलोचना झेलने पर मजबूर कर देता है।

प्रतिभा का खजाना है पंत
किरमानी ने कहा, ऋषभ पंत प्रतिभा खजाना है। वह बड़े शॉट खेलने वाला बल्लेबाज है, लेकिन विकेटकीपर के तौर पर उसे बहुत कुछ सीखना है। उसे यह भी सीखना होगा कि कब बड़ा शॉट लगाना है, जैसा कि उसने ऑस्ट्रेलिया में किया था।

विकेट कीपिंग की बुनियादी तकनीक सीखनी होगा
पंत को विकेट कीपिंग के कुछ नुस्खे देते हुए किरमानी ने कहा कि पंत विकेट कीपिंग में बुनियादी तकनीक सीखने की जरूरत है, जो उनके पास नहीं है। एक कीपर की क्षमता का अंदाजा तभी लगाया जाता है जब वह स्टंप्स के पास खड़ा होता है। उन्होंने कहा, वह दुनिया के सबसे तेज गेंदबाजों के खिलाफ अच्छा विकेटकीपिंग कर सकता है, क्योंकि आपके पास पर्याप्त समय है। जहां आप स्विंग और गेंद का उछाल देखकर उस मुताबिक अनुमान लगा सकते हैं।

पंत चाहते तो कई मैच जीतता भारत
किरमानी ने कहा कि बल्लेबाज के तौर पर पंत को परिस्थितियों के हिसाब से खेलना होगा। उन्होंने उम्मीद जतायी कि वह इसे सीखेंगे। क्योंकि अभी काफी युवा है। उन्होंने कहा, ब्रिसबेन में उसने काफी संतुलित पारी खेली, जिससे हम पहली बार वहां जीत दर्ज कर सके। ऐसे कई मौके थे जब पंत भारत को जीत दिला सकते थे, लेकिन उन्होंने अपना विकेट गंवा दिया। किरमानी ने माना कि इंग्लैंड के खिलाफ पहले टेस्ट मैच की शुरुआती पारी में भी पंत ने गलत समय अपना विकेट गंवा दिया पंत ने इस पारी में 88 गेंद में 91 रन बनाये थे। इस मैच का इंग्लैंड ने 227 रन से अपने नाम किया।

--Advertisement--

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here