– CM ने स्वास्थ्य और आवश्यक सेवाओं से जुड़े लोगों के लिए जारी किए आदेश

डीडीसी, देहरादून। कोरोना के बढ़ते प्रकोप को देखते हुए उत्तराखंड सरकार एक के बाद एक बड़े फैसले ले रही है। अब सरकार ने उत्तराखंड में हड़ताल पर प्रतिबंध लगा दिया है। हड़ताल और आंदोलन पर कड़ा रुख अपनाते हुए कहा कि CM तीरथ सिंह रावत ने साफ कहा है कि चिकित्सा अथवा आवश्यक सेवाओं से जुड़े कर्मचारी अगर हड़ताल करेंगे तो उन्हें सेवा से हटा दिया जाएगा और उनके स्थान पर नई नियुक्तियां की जाएंगी। इस मामले में CM ने स्पष्ट चेतावनी जारी कर दी है।

नौकरी भी जाएगी और मुकदमा भी दर्ज होगा
इस पर मुख्यमंत्री तीरथ सिंह रावत ने सख्त रुख अपनाया है। उन्होंने कहा कि चिकित्सा एवं आवश्यक सेवाओं के कोई भी कर्मचारी हड़ताल या आंदोलन करता है तो उस पर आपदा प्रबंधन अधिनियम की सुसंगत धाराओं में कार्यवाही की जाएगी। उन्होंने सभी कर्मचारियों से अपेक्षा की है कि इस महासंकट काल में सभी अपने कार्यों का निर्वहन ईमानदारी से करें। ऐसा न करने वाले हड़ताली व आंदोलनरत कार्मिकों की सेवा से हटाते हुए नई नियुक्तियों की कार्यवाही शुरू कर दी जाएगी।

एएनएम ने दी हड़ताल की घुड़की
राज्य में कोरोना का संक्रमण तेजी से फैल रहा है और ऐसे में स्वास्थ्य सेवाओं का दुरुस्त होना जरूरी है। बावजूद इसके एएनएम ने एसीपी और पदोन्नति समेत अन्य मांगों को लेकर 21 अप्रैल से हड़ताल पर जाने की चेतावनी दे दी है। अगर हड़ताल होती है तो स्वास्थ्य सुविधाओं को बढ़ाने में जुटे स्वास्थ्य विभाग को बड़ा झटका लग सकता है। फिलहाल तो अभी तक उपनल कर्मियों की हड़ताल से व्यवस्था काफी प्रभावित हुई थी और अब नई घुड़की।

--Advertisement--

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here