– नक्सलियों ने लापता जवान को अगवा करने का दावा किया

रायपुर, डीडीसी। छत्तीसगढ़ के बीजापुर में नक्सलियों और जवानों के हुई मुठभेड़ के बाद से लापता जवान का पता चल गया है। पता लगा है कि लापता जवान नक्सलियों के चंगुल में हैं और सुरक्षित हैं, लेकिन नक्सलियों ने जवान की जान सलामती के लिए शर्त रखी है। शर्त ये है कि जवान को जान बचाने के लिए अपनी नौकरी छोड़नी होगी। बताया जा रहा है कि नक्सलियों ने ये जानकारी फोन के जरिये कुछ माडियाकर्मियों से साझा की है।

जम्मू कश्मीर का है लापता जवान
लापता जवान का नाम राकेश्वर सिंह मनहास है। रामकेश्वर जम्मू कश्मीर के रहने वाले हैं और वो कोबरा बटालियन का हिस्सा हैं। नक्सलियों ने शर्त रखी है कि जवान पुलिस की नौकरी छोड़े और कोई दूसरा काम करे, तभी उसे रिहा किया जाएगा। बहरहाल अभी तक इस पर कोई आधिकारिक प्रक्रिया नही आई है।

सुकमा में नक्सलियों के साथ मुठभेड़ के दौरान 21 जवान लापता हो गए थे। इनमें से 20 के शव रविवार को एयरफोर्स की मदद से ढूंढे गए, जबकि एक जवान का पता अब तक नहीं चला। अब नक्सलियों ने उसके अपने कब्जे में होने का दावा किया है।

22 से ज्यादा जवानों की मौत
शनिवार के बीजापुर के तर्रेम क्षेत्र में यह मुठभेड़ तब शुरू हुई थी जब नक्सलियों ने सर्चिंग के लिए निकले सुरक्षाबलों को घेर कर उन पर हमला कर दिया था। इसमें 22 से ज्यादा जवानों की मौत होने की पुष्टि हुई है। जबकि दो दर्जन से ज्यादा सुरक्षाकर्मी घायल हैं। घायलों के इलाज के लिए राजधानी रायपुर के अस्पताल में भर्ती किया गया है।

अमित शाह बोले, शहीदों के परिजनों के साथ है पूरा देश
उन्होंने कहा कि हम विकास पर भी फोकस करेंगे और नक्सलियों से लड़ाई को भी आखिर तक ले जाने का फैसला लिया है। उन्होंने कहा कि इस संकट की घड़ी में पूरा देश आपके साथ खड़ा है। हम उनके बलिदान को व्यर्थ नहीं जाने देंगे। मैं शहीद हुए जवानों को एक बार फिर से श्रद्धांजलि देना चाहता हूं।

--Advertisement--

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here