– शाही स्नान पर उमड़ने वाली भीड़ को लेकर GRP ने लिखा खत

हरिद्वार, डीडीसी। महाकुंभ में हर हिंदु गंगा में एक डुबकी की तमन्ना रखता है, लेकिन कोरोना संक्रमण भक्तों के लिए खतरा बन गया है। पहले कोविड की निगेटिव रिपोर्ट दिखानी आवश्यक और अब ट्रेनों के संचालन पर ब्रेक लगाने का फैसला लिया गया है। आपने सही सुना, शाही स्नान पर ट्रेनों को हरिद्वार रेलवे स्टेशन पर आने की इजाजत नही होगी। जीआरपी (GRP) ने इन तारीखों की घोषणा भी कर दी है। तो अगर आप भी ट्रेन के जरिये कुंभ स्नान के लिए रवाना होने की सोच रहे हैं तो खबर ध्यान से पढ़ें।

11 अप्रैल से नहीं आएंगी ट्रेनें
हरिद्वार रेलवे स्टेशन पर 11 अप्रैल से ट्रेनें नहीं आएंगी। 12 और 14 अप्रैल के शाही स्नान को देखते हुए यह निर्णय लिया गया है। 14 अप्रैल तक यह व्यवस्था लागू रहेगी। दरअसल, महाकुंभ में शाही स्नान का दिन गंगा में डुबकी के लिए शुभ माना जाता है और हमेशा शाही स्नान पर कुंभ में भारी संख्या में भक्त गंगा स्नान के लिए आते हैं। अगर इस दफा भी ऐसा होता है तो कोरोना का संक्रमण रोकना मुश्किल हो जाएगा। इसी को देखते हुए जीआरपी चाहती है कि लोग कोविड नियमों के तहत ही गंगा स्नान के लिए हरिद्वार आएं।

यहां होगा हरिद्वार आने वाली ट्रेन का स्टॉपेज
ट्रेनों को केवल हरिद्वार रेलवे स्टेशन आने से रोका जा रहा है। इसका यह मतलब कतई नही है कि ट्रेनें हरिद्वार की ओर नही जाएंगी। बल्कि हरिद्वार आने वाली ट्रेनों को ज्वालापुर, रुड़की और लक्सर के रेलवे स्टेशन पर रोका जाएगा। श्रद्धालुओं को ज्वालापुर रेलवे स्टेशन पर उतारा जाएगा। ज्वालापुर स्टेेशन फुल होने पर लक्सर और रुड़की में ट्रेनों को रोका जाएगा। यहां से शटल बसों से यात्रियों को लाया जाएगा पर वापसी हरिद्वार स्टेशन से होगी।

GRP को अभी नही मिली है अनुमति
एसपी जीआरपी मंजूनाथ टीसी ने शुक्रवार को इस बाबत जीआरपी ने मुरादाबाद मंडल में पत्र भेज अपील की है कि 11 से 14 अप्रैल के बीच देहरादून और ऋषिकेश जाने वाली ट्रेनों को ज्वालापुर में ही रोका जाए। हालांकि अभी तक इसकी अनुमति नहीं मिल पाई है।

इन राज्यों से आने वालों पर सरकार का फोकस
कोरोना वायरस से संक्रमण के मामलों में वृद्धि के बीच उत्तराखंड सरकार ने मंगलवार को 12 राज्यों से आने वाले लोगों के लिए आरटी-पीसीआर रिपोर्ट अनिवार्य कर दी है। रिपोर्ट 72 घंटे पुरानी होगी, तभी मान्य होगी। मुख्य सचिव ओम प्रकाश ने कहा कि यह नियम महाराष्ट्र, केरल, पंजाब, कर्नाटक, छत्तीसगढ़, मध्य प्रदेश, तमिलनाडु, गुजरात, हरियाणा, उत्तर प्रदेश, दिल्ली और राजस्थान से सड़क, हवाई मार्ग और रेलगाड़ियों से आने वाले लोगों पर एक अप्रैल से लागू है।

यहां करें ऑनलाइन आवेदन
कुंभ मेले में हरिद्वार आने वाले श्रद्धालुओं के लिए ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन के लिए पोर्टल तैयार कर लिया गया है। रजिस्ट्रेशन के लिए कुंभ की ऑफिसियल वेबसाइट www.haridwarkumbhmela2021.com ऑनलाइन आवेदन प्रकिया को पूरा करना होगा। अनुमति मिलने के बाद ही हरिद्वार की सीमा से एंट्री हो सकेगी।

हरिद्वार कुंभ 2021 के शाही स्नान
पहला शाही स्नान: 11 मार्च, दिन गुरुवार, महाशिवरात्रि के दिन हो चुका है।
दूसरा शाही स्नान: 12 अप्रैल, दिन सोमवार, सोमवती अमावस्या के दिन।
तीसरा मुख्य शाही स्नान: 14 अप्रैल, दिन बुधवार, मेष संक्रांति के दिन।
चौथा शाही स्नान: 27 अप्रैल, दिन मंगलवार, बैसाख पूर्णिमा के दिन।

--Advertisement--

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here