– उत्तराखंड के मुख्यमंत्री धामी हल्द्वानी में थे और हल्द्वानी के प्रथम नागरिक तोड़ रहे थे कानून

सर्वेश तिवारी, डीडीसी। राज्य के मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी शहर में थे और शहर के प्रथम नागरिक डॉ. जोगेंद्र पाल सिंह रौतेला अपनी बुलेट तले कानून को रौंद रहे थे। न मेयर साहब के सिर पर हेलमेट था और न मुंह पर मास्क। सैकड़ों लोगों के आइडल मेयर रौतेला को उनके सैकड़ों समर्थक फॉलो भी कर रहे। क्योंकि वो दो पहिया वाहनों का काफिला लेकर निकले थे और सब मेयर साहब के ही पदचिन्हों पर चल रहे थे। सरकार भाजपा की है, मेयर भाजपा के हैं और सरकार शहर में थी। फिर मेयर साहब के खिलाफ एक्शन लेने की जुर्रत भला कौन करता। इस मामले में अब हल्द्वानी की एक लड़की ने आवाज उठाई है और मेयर के खिलाफ शिकायत की है।

तिकोनिया का है फोटो में दिख रहा नजारा
फोटो में जो नजारा आप देख रहे हैं वो नैनीताल रोड पर तिकोनिया चौराहे के नजदीक का है। तिकोनिया पर उपनल और एचपी कंपनी के कर्मचारियों को धरना था और उम्मीद थी कि सीएम का विरोध होगा। इसलिए वहां एसपी सिटी डॉ. जगदीश चंद्र और सीओ सिटी शांतनु पाराशर पूरी पुलिस फोर्स, सीपीयू और यातायात पुलिस के साथ तैनात थे। तभी धड़धड़ करती बुलेट पर सवार मेयर रौतेला का काफिला वहां से गुजरा।

काफिले में सब चल रहे थे मेयर के पदचिन्हों पर
यूके 04 एए 2504 नंबर की बुलेट को खुद रौतेला चला रहे थे, लेकिन खाकी को खादी की जेब में रखकर। न मेयर साहब के चेहरे पर मास्क था और न सिर पर हेलमेट। मेयर के काफिले में ऐसे 50 से ज्यादा वाहन थे, जिनके सवारों ने तो हेलमेट लगाए थे और न ही मास्क।

उत्तराखंड ट्रैफिक आई एप पर हुई शिकायत
इस मामले में मेयर के खिलाफ एक आम नागरिक ने शिकायत करने की हिम्मत जुटाई है। समाजसेवी मंजू भट्ट ने कहा कि खबरें प्रकाशित होने के बावजूद पुलिस का एक्शन न लेना शर्मनाक है। फिर पुलिस ने भी इस मामले पर एक्शन नही लिया। जिसके बाद उत्तराखंड पुलिस के उत्तराखंड ट्रैफिक आई एप पर इसकी शिकायत की है। वैसे इस पर मेयर को खुद गलती मान लेना चाहिए।

--Advertisement--

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here