– शिक्षा विभाग के फार्मूले पर आखिरी फैसला लेगी राज्य सरकार

देहरादून, डीडीसी। उत्तराखंड में हाईस्कूल और इंटरमीडिएट के छात्रों को पास करने का फार्मूला तैयार हो चुका है। शिक्षा विभाग के इस फार्मूले को फाइनल माना जा रहा है। हालांकि राज्य सरकार इस फार्मूले पर आखिरी मुहर लगाएगी। एक बड़ी बात ये कि जो बच्चे इस फार्मूले से संतुष्ट नहीं होंगे, उन्हें अलग से परीक्षा देने का मौका भी मिलेगा।

वर्तमान और पिछली परीक्षा के रिजल्ट पर मिलेंगे अंक
हाईस्कूल का रिजल्ट नवीं और दसवीं कक्षा के प्रदर्शन के आधार पर तय होगा। इंटर मीडिएट का रिजल्ट 11 और 12 वीं कक्षा के प्रदर्शन पर तय होगा। सोमवार को ननूरखेड़ा स्थित शिक्षा महानिदेशालय में आयोजित रिजल्ट समिति की दूसरी बैठक में रिजल्ट फार्मूले को अंतिम रूप दे दिया गया। रिजल्ट कमेटी अध्यक्ष महानिदेशक-शिक्षा विनय शंकर पांडेय ने इसकी पुष्टि की। उन्होंने बताया कि रिजल्ट का प्रस्ताव कल शासन को सौंप दिया जाएगा। रिजल्ट के फार्मूले पर अंतिम निर्णय सरकार के स्तर पर ही लिया जाएगा।

सीबीएसई, यूपी और हिमाचल फार्मूले पर भी चर्चा
सूत्रों के अनुसार बैठक में सीबीएसई, यूपी और हिमाचल प्रदेश के फार्मूलों पर भी चर्चा की गई। उत्तराखंड में नवंबर 2020 में हाईस्कूल और इंटर की कक्षाएं खुल गई थी। नवंबर 2020 से मार्च 2021 की अवधि तक की मासिक परीक्षा, सालाना परीक्षा, प्रेक्टिकल के अंक के आधार पर रिजल्ट तय किए जाएंगे। सीबीएसई ने भी करीब करीब यही फार्मूला बनाया है।

प्रैक्टिकल देने का भी मिलेगा मौका
सूत्रों के अनुसार बोर्ड परीक्षा के प्रेक्टिकल देने छूट गए छात्रों को ऑनलाइन अथवा ऑफलाइन प्रेक्टिकल का एक मौका दिया जाएगा। जो छात्र इन अंकों से संतुष्ट न होंगे उन्हें भविष्य में अंक सुधार के लिए परीक्षा देने का मौका भी मिलेगा।

--Advertisement--

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here