– घर के बाहर दो पहिया वाहनों के खड़ा करने से नाराज नवाब स्कूटी और मोटरसाइकिल को फेंका

हल्द्वानी, डीडीसी। सोशल मीडिया पर सुर्खियां बटोर रहा एक वीडियो सरकार की किरकिरी करा रहा है। वीडियो में अल्प संख्यक आयोग के उपाध्यक्ष मजहर नईम नवाब हल्द्वानी में सरेआम गालियां देते और दो पहिया वाहनों को फेंकते नजर आ रहे हैं। वीडियो वायरल हुआ तो अब नवाब की सफाई भी सामने आ गई है, लेकिन वीडियो में दिख रही हरकत ने बैठे-बिठाए विपक्षी पार्टी को एक मुद्दा दे दिया है।

 

वायरल हो रहे वीडियो में उपाध्यक्ष मजहर नईम नवाब अपने घर के बाहर गली में दिखाई दे रहे हैं। वे काफी क्रोधित हैं और इस बात से नाराज है कि लोग उनके घर के बाहर अपनी गाड़ियां खड़ी कर जाते हैं। इससे उन्हें घर के अंदर-बाहर आने-जाने में परेशानी होती है। इसी बात से नाराज नवाब ने पहले तो एक स्कूटी पर अपना गुस्सा उतारा और उसे गली के बीचो-बीच फेंक दिया।

इसके बाद एक बाइक को गिरा दिया। इस दरम्यान वह लगातार गालियां देते रहे। गालियां देते हुए वह आगे बढ़े और फिर एक ठेले वाले को निशाना बनाया। ये ठेला भी गली में खड़ा होता है और नवाब ने चीखते हुए स्पष्ट शब्दों में कहा कि आज के बाद ये ठेला भी गली में खड़ा नहीं होगा।

इस दरम्यान गली में बड़ी संख्या में लोग एकत्र हो गए, लेकिन नवाब का विरोध नहीं कर सके। लोग चुपचाप उनकी नाराजगी और गालियां सुनते रहे। बहरहाल, dakiyaa.com इस वीडियो की पुष्टि नही करता।

कांग्रेस के छुटभैया नेताओं की हरकत : नवाब
उपाध्यक्ष मजहर नईम नवाब ने वायरल हो रहे वीडियो पर अपना पक्ष भी रखा है। उनका कहना है कि कुछ छुटभैये नेताओं ने योजना के तहत वीडियो में मुक्सिंग कर उसमें गालियां डाली। कांग्रेस को विकास पसंद नहीं आ रहा है। जिन लोगों ने यह हरकत की है मैं उनके खिलाफ केस दर्ज कराउंगा। उन्होंने कहा, मेरे गैराज के बाहर कुछ गाड़ियां खड़ी थीं। मेरा ड्राइवर गाड़ी निकालने गया तो उसके साथ कुछ लोगों ने गाली-गलौज की और जान से मारने की धमकी दी।

वीडियो में दिख रही हरकत अशोभनीय है : जैन
इस मामले में अल्प संख्यक आयोग के अध्यक्ष डॉ.आरके जैन का कहना है कि उन्होंने भी वायरल हो रहे वीडियो को देखा है और वायरल हो रहे वीडियो में दिख रह हरकत यकीनन अशोभनीय है। हम इस मामले की पूरी जांच कराएंगे और उपाध्यक्ष मजहर नईम नवाब से स्पष्टीकरण लिया जाएगा। जिसके बाद पूरे मामले को मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी के समक्ष रखा जाएगा। उच्च पद पर बैठे किसी भी व्यक्ति द्वारा इस तरह की हरकत ठीक नहीं है।

सवा मिनट के वीडियो में 12 बार दी गालियां
उपाध्यक्ष ने गालियां देने से भले ही किनारा काट लिया है, लेकिन वायरल हो रहे एक मिनट 28 सेकेंड के वीडियो में 12 बार गालियां दी गईं। यानि क्रोध से भरे हर शब्द के बाद गाली का इस्तेमाल किया गया। अब उपाध्यक्ष वीडियो को एडिट किए जाने की बात कह रहे हैं और कानून की धाराएं गिना कर वीडियो वायरल करने वालों को धमका भी रहे हैं। वह कह रहे हैं कि इस मामले में उन्होंने पुलिस के अधिकारियों से भी बात की है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here