– गुरुवार को सुप्रीम कोर्ट ने ‘मिर्जापुर (Mirzapur)’ और अमेजन प्राइम वीडियो के मेकर्स व प्रोड्यूसर्स को नोटिस जारी किया

न्यूज डेस्क, डीडीसी। वेब सीरीज ‘तांडव (Tandav)’ से शुरू हुए विवाद ने आने वाली चर्चित वेब सीरीज ‘मिर्जापुर (Mirjapur) को भी मुश्किल में डाल दिया है। याद होगा कि मिर्जापुर भी तांडव जैसी अश्लीलता और गाली-गलौज से हाउसफुल वेब सीरीज थी और सबसे बड़ी बात ये कि दोनों वेब सीरीज अमेजन प्राइम वीडियो (Amazon Prime Video) की हैं। गुरुवार को सुप्रीम कोर्ट ने ‘मिर्जापुर’ और अमेजन प्राइम वीडियो के मेकर्स और प्रोड्यूसर्स को एक नोटिस जारी किया हैं। वेब सीरीज में श्वेता त्रिपाठी शर्मा, पंकज त्रिपाठी अली फजल और दिव्येंदु शर्मा मुख्य भूमिकाओं में हैं।

सुप्रीम कोर्ट ने मांगी प्रतिक्रिया
सुप्रीम कोर्ट ने ओटीटी प्लेटफॉर्म और सीरीज निर्माताओं से प्रतिक्रिया मांगी हैं। ‘मिर्जापुर’ सीरीज मुसीबतों के लिए नई नहीं है, यह पिछले साल रिलीज होने के बाद से विवादों में घिरी हुई है। मिर्जापुर के सांसद अनुप्रिया पटेल ने भी इसके खिलाफ जांच की मांग की थी। पटेल ने यह कहते हुए वेब सीरीज पर प्रतिबंध लगाने की मांग की थी कि यह जातीय भेदभाव फैला रहा है।

हिसंक जिला बना दिया मिर्जापुर को
सांसद अनुप्रिया ने वेब सीरीज पर गंभीर आरोप लगाए है। उन्होंने तो वेब सीरीज मिर्जापुर को बैन करने के साथ निर्माता-निर्देशक के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की मांग की थी। अमेजन प्राइम पर जारी सीरीज में मिर्जापुर की छवि को ‘हिंसक’ जिले की तरह प्रदर्शित किया गया है।

जितने आरोप, उससे कहीं ज्यादा तालियां
वेब सीरीज मिर्जापुर खूब विवादों में रही और जितने विवाद जुड़े ये उससे कहीं ज्यादा पसंद की गई। दर्शकों की पसंद का नतीजा है कि ये वेब सीरीज सबसे ज्यादा पसंद की गई वेब सीरीज की सूची में शुमार है। मिर्जापुर वेब सीरीज परिवारों, राजनीति और चुनावों में संघर्ष की एक हिंसक कहानी है।

--Advertisement--

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here