– WHO ने नमक खाने पर जारी की नई गाइडलाइन

नई दिल्ली, डीडीसी। नमक और इसके बिना भारतीय रसोई की कल्पना नही की जा सकती। खाने में ज्यादा कम हो जाए तो स्वाद खराब हो जाता है, लेकिन अपने कभी सोचा है कि यही नमक आपकी जान की वजह बन सकता है। शायद इस बारे में आपने कभी सोचा होगा, लेकिन नमक मौत की वजह बन सकता है और हर साल ज्यादा नमक खाने से 3 लाख लोग मर जाते हैं। हाल ही में WHO ने इस पर अध्ययन किया है और लोगों के लिए एक नई गाइडलाइन जारी की है। इस गाइडलाइन में बताया गया है कि एक व्यक्ति को दिन में 5 ग्राम से ज्यादा नमक का सेवन नही करना चाहिए।

2025 तक कम हो जाएगी 30% नमक की खपत
इसके साथ खाद्य पर्यावरण में सुधार और जीवन को बचाने के लिए 60 से ज्यादा फूड कैटेगरीज में सोडियम लेवल के लिए नए मानदंड तैयार किए हैं। माना जा रहा है कि ये बेंचमार्क 2025 तक नमक की खपत में 30 प्रतिशत तक कमी लाएगा।

BP, हृदय रोग, स्ट्रोक और हड्डी कमजोर करता है नमक
WHO की मानें, तो हम सभी जरूरत से दो गुना ज्यादा नमक खा रहे हैं। विशेषज्ञों के अनुसार सोडियम और पोटेशियम का संतुलन हमारे शरीर में जरूरी है। कम पोटेशियम के साथ ज्यादा सोडियम के सेवन से स्वास्थ्य को नुकसान पहुंच सकता है। भोजन में नमक की ज्यादा मात्रा से ब्लड प्रेशर, हृदय रोग और स्ट्रोक का खतरा बढ़ जाता है, वहीं ये हड्डियों को भी कमजोर बना देता है।

​लोग हर दिन खाते हैं 9-12 ग्राम नमक
एक स्वस्थ प्लाज्मा बनाने और तंत्रिका के स्वास्थ्य में सुधार के लिए नमक का सेवन जरूरी माना गया है। यह प्रोसेस्ड फूड, पैकेज्ड फूड, डेयरी और मांस जैसी फूड कैटेगरीज में ज्यादा पाया जाता है। हालांकि, मसालों, नमकीन में भी इसकी मात्रा बहुत होती है।

रोकी जा सकती हैं ढाई लाख मौतें
WHO के आंकड़ों के अनुसार, ज्यादातर लोग औसतन हर दिन 9-12 ग्राम नमक का सेवन करते हैं। संगठन ने यह अनुमान लगाया है कि अगर नमक की खपत को अनुशांसित स्तरों तक घटा दिया जाए , तो वैश्विक स्तर पर 2.5 मिलियन मौतों को रोका जा सकता है।

​नमक के फायदे और दुष्प्रभाव
हम सभी जानते हैं कि नमक हमारे दैनिक आहार का जरूरी हिस्सा है। इसका बिना हर भोजन अधूरा है। इसके सेवन से शरीर को काम करने में मदद मिलती है। यह शरीर को न केवल हाइड्रेट रखता है, बल्कि थायराइड को ठीक से काम करने में भी मदद मिलती है। लो बीपी की शिकायत पर नमक का सेवन बहुत फायदेमंद है। यह सिस्टिक फाइब्रोसिस के लक्षणों में सुधार करता है, लेकिन इसे जरूरत से ज्यादा लिया जाए, तो जाने-अनजाने में सेहत को बहुत नुकसान पहुंचता है। यह दिल की बीमारी, स्ट्रोक, हाई बीपी और किडनी रोग का खतरा कई गुना बढ़ा सकता है।

​नमक के बारे में गलत धारणा
संगठन ने नमक की कमी के बारे में कुछ मिथकों और भ्रांतियों को भी स्पष्ट किया है। कई लोग मानते हैं कि पसीना आने के बाद नमक ज्यादा खाना चाहिए। जबकि ये गलत है। पसीने के बाद केवल हाइड्रेशन की जरूरत होती है। बहुत ज्यादा नमक खाने से किसी भी उम्र में ब्लड प्रेशर बढ़ सकता है।

ये भी पढ़ें
WHO दिशा-निर्देशों के अनुसार, 100 ग्राम के आलू के चिप्स में ज्यादा से ज्यादा 100 ग्राम सोडियम होना चाहिए। जबकि पाई और पेस्ट्री में 120 ग्राम तक और प्रोसेस्ड मीट में 30 मिग्रा तक सोडियम होना अच्छा है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here