– पिथौरागढ़ में बीवी, बेटी को जहर देकर कत्ल करने के बाद लगाई फांसी

पिथौरागढ़, डीडीसी। आज सुबह पिथौरागढ़ में एक बड़ी वारदात ने लोगों के रोंगटे खड़े कर दिए। एक पूरे परिवार की लाश बंद दरवाजे के पीछे पड़ी होने की खबर मिलते ही राजस्व पुलिस भी मौके पर पहुंच गई। राजस्व पुलिस अंदर दाखिल हुई तो होश फाख्ता रह गए। घर के मुखिया की लाश फंदे से लटक रही थी, जबकि बेटी और बीवी की लाश जमीन पर पड़ी थी। माना जा रहा है कि युवक ने पहले पत्नी और बेटी का जहर देकर कत्ल किया और फिर खुद फांसी लगा कर जान दे दी। राजस्व पुलिस मामले की पड़ताल कर रही है।

सुबह 8 बजे तक नही खुला दरवाजा तो खटका दिमाग
पिथौरागढ़ के चचरेत गांव निवासी चंचल सिंह (25) पुत्र नारायण सिंह यहाँ पत्नी सरिता (21) व 2 साल की बेटी गीतांजलि के साथ रहता था। रोज तड़के ही उठ जाने वाले चंचल के घर का दरवाजा आज सुबह 8 बजे तक नही खुला तो गांव वालों को शंका हुई। गांव वालों ने इसकी सूचना चंचल के बड़े भाई को दी। भाई मौके पर पहुंचा और उसके बाद ग्रामीणों ने मकान दरवाजा तोड़ दिया। दरवाजा तोड़ते ही कमरे में 25 वर्षीय चंचल सिंह पुत्र नारायण सिंह का शव फंदे पर लटका था। चंचल सिंह की पत्नी 21 वर्षीय सरिता देवी और दो वर्षीय पुत्री गीतांजलि की लाश बिस्तर पर पड़ी थी।

6 माह से ससुराल में थी सरिता
मृतक चंचल सिंह की सरिता से वर्ष 2015 में शादी हुई थी। उसका ससुराल थल के कशाड़ी गांव में है। वर्तमान में ससुराल वाले चौकोड़ी में रहते हैैं। मृतका सरिता देवी विगत छह माह से मायके वालों के साथ चौकोड़ी में रह रही थी। चंचल सिंह का परिवार अपने भाई के परिवार से अलग रहता था। अभी तक मौत के कारणों का पता नहीं चल सका है। मामला संदिग्ध नजर आ रहा है।

ससुराल से लौटते ही दिया वारदात को अंजाम
चंचल सिंह दिल्ली में प्राइवेट नौकरी करता था। वह बुधवार को चंचल दिल्ली से अपनी ससुराल चौकोड़ी पहुंचा था। जहां उसकी पत्नी सरिता और बेटी थी। एक रात ससुराल में गुजारने के बाद अगले दिन गुरुवार की शाम वह पत्नी और बच्ची को साथ लेकर गांव आ गया। उनके बीच क्या हुआ था, ये किसी को नहीं पता। हालांकि अगली सुबह शुक्रवार को परिवार के तीनों सदस्यों के शव कमरे में मिले हैं। फिलहाल यही माना जा रहा है कि चंचल ने पहले बीवी बच्चों को मौत के घाट उतारा और फिर खुद मौत को गले लगा लिया।

बड़े भाई ने दी खबर
मृतक के बड़े भाई भगवान सिंह ने घटना की सूचना राजस्व विभाग को दी। क्षेत्र के राजस्व विभाग के अंतर्गत होने से एसडीएम अभय प्रताप सिंह के नेतृत्व में राजस्व टीम गांव को रवाना हुई । राजस्व पुलिस ने तीनों शव कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया। राजस्व पुलिस जांच में जुटी है।

--Advertisement--

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here