– योगी का राज, कोरोना काल और व्यवस्था बदहाल

भरत गुप्ता, लखनऊ (डीडीसी)। अब तो ऐसा लगता है कि योगी राज में जिंदा लोगों से जीने का अधिकार छीना जा रहा है। तभी तो धरती के भगवान एक चिकित्सक ने जिंदा महिला को मृत घोषित कर दिया। और तो और उसका डेथ सर्टिफिकेट परिजनों के हाथ थमा डेड बॉडी घर ले जाने को कह दिया, लेकिन जैसे ही लाश घर पहुंची तो अचानक सांस लौट आई। इस घटना ने चिकित्सक के पेशे को कटघरे में खड़ा कर दिया है और साथ ही साथ योगी सरकार को भी। क्योंकि जिस अस्पताल में महिला को भर्ती कराया गया, वह भी उत्तर प्रदेश सरकार है और महिला को मुर्दा घोषित करने वाला चिकित्सक भी। अब मर के जिंदा हुई महिला का परिवार आरोपियों के खिलाफ सख्त कार्यवाही की मांग कर रहा है।

उत्तर प्रदेश की राजधानी में घटी ये गजब घटना
ये घटना उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ में घटी और अस्पताल था उत्तर प्रदेश सरकार का राम मनोहर लोहिया अस्पताल का। जहां 3 दिन पहले महिला को एडमिट कराया गया था। कोरोना काल के दरम्यान बमुश्किल सालेह नगर की रहने वाली सुखरानी गौतम को चिकित्सक मिला और डॉक्टर एके त्रिपाठी ने इलाज शुरू किया। परिजनों के लिए ये बड़ी राहत की बात थी कि महामारी काल में उन्हें कम से कम अस्पताल में जगह तो मिल गई, लेकिन ये राहत चंद घंटों की थी।

घर पहुंचते ही खोला मुंह और ली एक लंबी सांस
3 दिन पहले जब महिला अस्पताल पहुंची तो उसे दाखिला मिल गया, लेकिन बेड नही मिला। आज सुबह यानी 2 मई को सुबह महिला को बेड नसीब हुआ और बकायदा इलाज शुरू हुआ, लेकिन शाम ढलने से पहले ही चिकित्सक ने उसे मृत घोषित कर दिया। परिजन महिला को घर लेकर पहुंचे और अंतिम यात्रा की तैयारियों में लग गए तभी मृत महिला ने मुंह खोला और एक लंबी सांस ली। मोहल्ले के ही एक चिकित्सकीय ज्ञान रखने वाले व्यक्ति को बुलाया। ऑक्सीजन लगाया गया। ऑक्सीमीटर लगाया गया तो 99 और 59 दिखाने लगा। जिसके बाद परिजन महिला को रात लखनऊ के एक अन्य अस्पताल ले गए।

dakiyaa के यूपी हेड को बताई दास्तां
इस पूरी घटना का वीडियो अब सोशल मीडिया पर वायरल है। ये वीडियो खुद महिला के बेटे ने बनाया और आरोपी चिकित्सक के खिलाफ कार्यवाही की मांग। साथ ही जनता से वीडियो ज्यादा से ज्यादा वायरल करने की अपील की। इस मामले में dakiyaa के यूपी हेड भरत गुप्ता ने पीड़ित परिजनों से मोबाइल पर बात की और पूरा वाकया जाना। हमने खबर में आपको सारी जानकारी दी।

--Advertisement--

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here